वेबसाइट में सर्च करें

UPDATEMART वेबसाइट से फेसबुक पर जुडें

Aug 5, 2017

कॉन्वेंट छोड़ इस सरकारी स्कूल में आ रहे बच्चे, प्रधानाध्यापक की कोशिश से साल भर में बदल गया स्कूल का माहौल

कौशांबी 1स्कूल में प्रार्थना के लिए लाइन में खड़े 400 से ज्यादा बच्चे। पढ़ाई शुरू हुई तो कक्षाएं बच्चों से फुल, शिक्षक पढ़ाने में व्यस्त, प्रोजेक्टर व कंप्यूटर पर भी पढ़ते बच्चे। पीटी का नियमित अभ्यास। यह हकीकत है
लौधना के सरकारी स्कूल की। यहां कॉन्वेंट स्कूलों से नाम कटवाकर आने वाले बच्चों की लाइन लगी है, लेकिन क्लास में बैठने की जगह न होने से अब प्रवेश बंद है।1यह स्कूल कौशांबी जिला मुख्यालय से 25 किमी दूर फतेहपुर सीमा से सटा है। इस स्कूल में प्राइमरी, जूनियर और 9वीं व 10वीं की कक्षाएं चलती हैं। प्राइमरी स्कूल में पिछले साल 130 बच्चे थे, जो अब 316 हो गए हैं। जूनियर में 31 से बढ़कर 84 बच्चे हो गए हैं। 9वीं और 10वीं में 7 से बढ़कर 25 बच्चे हो गए हैं। आसपास के निजी स्कूलों के करीब 200 बच्चे यहां प्रवेश ले चुके हैं।1यहीं पढ़े, यहीं पढ़ा रहे : साल भर पहले पंकज सिंह प्रधानाध्यापक बनकर पहुंचे। वह इसी गांव के रहने वाले हैं। 2005 में शिक्षक बने पंकज सिंह ने यहीं से अपनी शिक्षा की शुरुआत की थी, इसलिए इसे बेहतर करने की मन में लालसा भी थी। 1दो लाख रुपये खुद लगाए : स्कूल में शिक्षा के लिए संसाधन जुटाने में पंकज सिंह ने करीब दो लाख रुपये अपने पास से खर्च किए। पिछले साल वह बच्चों के घर गए और गुणवत्ता पूर्ण पढ़ाई की जानकारी देकर अभिभावकों को स्कूल आने की सलाह दी। अभिभावकों ने स्कूल में पढ़ाई की व्यवस्था देखी तो बच्चों के प्रवेश लेने की लाइन लग गई। सरकार ने बच्चों को ड्रेस दिया, लेकिन छात्रों की ड्रेस की गुणवत्ता खराब थी तो उन्होंने लौटा दिया। बच्चों के लिए टाई और आई कार्ड उन्होंने अपने पैसे से मंगा लिया है। 1कम संसाधन में बेहतर प्रदर्शन : प्राइमरी में 6 शिक्षक (मानक 10 का), जूनियर में 3, कक्षा 9वीं व 10वीं में दो शिक्षक हैं। तीनों स्कूल के शिक्षक एक दूसरे की कक्षाओं में मिल जुलकर पढ़ा रहे हैं।लौधना स्कूल में प्रोजेक्टर पर पढ़ाई करते बच्चे। (इंसेट)स्कूल के प्रधानाध्यापक पंकज सिंह।यह स्कूल जिले का मॉडल स्कूल बनेगा। वे स्वयं स्कूल का निरीक्षण कर व्यवस्था और सुदृढ़ करेंगे1महाराज स्वामी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी 1’>>प्रधानाध्यापक पंकज की कोशिश से साल भर में बदल गया स्कूल का माहौल1’>>आसपास के कई निजी स्कूलों के करीब 200 बच्चे यहां ले चुके हैं प्रवेश




uptet | up tet | uptet latest news | uptet news | only4uptet | primary ka master | basic shiksha parishad | basic siksha parishad | basic shiksha | shiksha mitra | shikshamitra latest news | shikshamitra news | uptet 2011 | uptet syllabus | uptet syllabus 2016 | uptetnews | uptet 2016 | uptet 2016 result | uptet result | uptet 2016 admit card | up basic shiksha parishad | shikshamitra

कॉन्वेंट छोड़ इस सरकारी स्कूल में आ रहे बच्चे, प्रधानाध्यापक की कोशिश से साल भर में बदल गया स्कूल का माहौल Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS

updatemarts