वेबसाइट में खोजें

अब आंगनबाड़ी केन्द्रों के बच्चों को अब मिलेगी नकद धनराशि

आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पंजीकृत बच्चों को अब पका-पकाया भोजन की जगह नकद धनराशि दी जाएगी। प्रदेश सरकार ने कैश ट्रांजक्शन योजना के तहत यह कवायद शुरू की है। इसके तहत प्रथम चरण में प्रदेश के 38 जिलों में यह योजना शुरू की गई है। दूसरे चरण में सोनभद्र में यह योजना लागू होगी।
आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गर्भवती महिलाओं व लगभग ढाई वर्ष तक के बच्चों में पोषाहार वितरण के साथ ही पौष्टिक आहार भी दिया जाता है। पौष्टिक आहार के तहत केन्द्रों पर उन्हें पका-पकाया भोजन उपलब्ध कराया जाता है। प्रदेश सरकार ने अब पका-पकाया भोजन देने की योजना की जगह नकद धनराशि देने की कवायद शुरू की है। सरकार की कैश ट्रांजक्शन योजना के तहत अब शिशु के प्रथम एक हजार दिन तक यह धनराशि उनकी माता के खाते में भेजी जाएगी। इससे गर्भवती महिलाएं अपने साथ ही बच्चे के स्वास्थ्य और खान-पान के लिए इंतजाम कर सकेंगी। इसके तहत केन्द्रों पर पंजीकृत गर्भवती महिलाओं का खाता नंबर भी लिया जाएगा। उनके खाते में ही धनराशि भेजी जाएगी। यह धनराशि लगभग एक हजार से लेकर तीन हजार रुपये तक हो सकती है। गर्भवती महिलाएं नौ माह तक प्राप्त धनराशि का स्वयं उपयोग करेंगी। इसके तहत पौष्टिक आहार के साथ ही स्वास्थ्य सम्बंधित आवश्यकताओं की पूर्ति की जाएगी। प्रसव के बाद महिला और उसके बच्चे दोनों की इस धनराशि से पौष्टिक आहार व अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति की जाएगी। सरकार ने प्रथम चरण में प्रदेश के 38 जिलों में इस योजना को लागू किया है। दूसरे चरण में सोनभद्र में यह योजना लागू हो जाएगी।
आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पका-पकाया भोजन की जगह नकद धनराशि देने की सरकार ने कवायद शुरु की है। सरकार की कैश ट्रांजक्शन योजना के तहत अब आंगनबाड़ी केन्द्रों पर पंजीकृत गर्भवती महिलाओं के खाते में सीधे धनराशि भेजी जाएगी। इसके तहत प्रथम चरण में प्रदेश के 38 जिलों में यह योजना शुरु की गई है। दूसरे चरण में सोनभद्र में यह योजना शुरु की जाएगी।
अजीत कुमार सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी

अब आंगनबाड़ी केन्द्रों के बच्चों को अब मिलेगी नकद धनराशि Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS