वेबसाइट में खोजें

बेसिक शिक्षकों को रास नहीं आ रहे राजकीय विद्यालय

लाहाबाद वरिष्ठ संवाददाता

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों और सेवानिवृत्त माध्यमिक शिक्षकों को राजकीय विद्यालय पसंद नहीं आए। प्रतिनियुक्ति पर तैनाती के लिए इन शिक्षकों से आवेदन मांगे गए थे लेकिन जिले में 15 स्कूलों में रिक्त 50 पदों पर महज 49 ने आवेदन किया है।माध्यमिक शिक्षा निदेशक अमरनाथ वर्मा ने 21 अगस्त को सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को प्रतिनियुक्ति पर तैनाती के लिए टाइम-टेबल जारी किया था। 26 अगस्त से 6 सितंबर तक आवेदन लिए गए। 7 व 8 सितंबर को इनका परीक्षण कर विषयवार आवेदकों की सूची तैयार की गई। डीएम से सहमति लेकर डीआईओएस ने जिला स्तरीय चयन समिति का गठन किया है। इन अभ्यर्थियों का साक्षात्कार मंगलवार को होना था लेकिन स्थगित कर दिया गया।कला और जीव विज्ञान में नहीं आए आवेदन : सूची के मुताबिक अंग्रेजी में 9 पदों पर पांच आवेदन मिले हैं जबकि विज्ञान में 8 पदों पर 6, गणित में 12 पदों पर 10, सामाजिक विज्ञान में 6 पदों पर 10, हिन्दी में 6 पदों पर 11 व संस्कृत के एक पद पर दो आवेदन मिले हैं। कला में तीन व गृह विज्ञान में एक पद पर किसी ने भी आवेदन नहीं किया है।जीव विज्ञान व शारीरिक शिक्षा विषय में एक-एक पद पर एक-एक व कृषि में तीन पदों पर तीन अभ्यर्थियों ने फार्म भरा है।

रिटायर शिक्षकों से पढ़वाने का विरोध

इलाहाबाद। माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा ने राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में रिटायर शिक्षकों से पढ़वाने का विरोध किया है। महासभा के संस्थापक प्रदेश अध्यक्ष चौधरी रामवीर सिंह यादव का कहना है कि एक ओर बेरोजगार युवा सड़क पर धक्के खा रहे हैं और दूसरी ओर सरकार सेवा पूरी कर चुके शिक्षकों से पढ़वाने जा रही है जो कि अनुचित है। माध्यमिक वित्तविहीन विद्यालय प्रबंधक महासभा के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष सुनील पांडेय ने कहा कि वित्तविहीन शिक्षकों की सेवा नियमावली बनाते हुए उन्हें सम्मानजनक मानदेय दिया जाए।

राजकीय विद्यालयों में प्रतिनियुक्ति पर शिक्षकों की तैनाती के लिए मंगलवार को साक्षात्कार व्यस्तता के कारण नहीं हो सका। अब साक्षात्कार 15 सितंबर को होगा।अमरपाल सिंह, एडीएम सिविल सप्लाई एवं अध्यक्ष चयन समिति

बेसिक शिक्षकों को रास नहीं आ रहे राजकीय विद्यालय Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS