वेबसाइट में सर्च करें

UPDATEMART वेबसाइट से फेसबुक पर जुडें

Sep 8, 2017

विकल्प से छिना अफसरों का हक, मा. शिक्षा महकमे में अफसरों का फेरबदल विकल्प के अनुसार

इलाहाबाद : माध्यमिक शिक्षा विभाग के फेरबदल में ‘विकल्प’ प्रणाली ने लंबे समय से हाशिए पर रहे अफसरों का हक छीन लिया। इसमें उन अफसरों की मौज रही, जो जिला, मंडल या फिर अहम कार्यालयों में तैनात रहे हैं। विभाग के समूह ‘क’ व ‘ख’ संवर्ग के तमाम पद हैं, लेकिन अहम पदों पर उन्हीं को वरीयता मिली है जो
पहले से कहीं न कहीं कार्यरत रहे हैं। विभाग में पुराने, लेकिन तैनाती पाने के मामले में नए अफसर अब भी दरकिनार हैं। 1माध्यमिक शिक्षा विभाग में फेरबदल शुरू होने से पहले दो तरह के प्रयोग हुए। पहला दोनों संवर्गो के अफसरों से दो-दो विकल्प मांगे गए। इसमें उन्हें लिखकर देना था कि इस समय वह कहां पर तैनात हैं और कहां जाना चाहते हैं। दूसरा कार्य सभी अफसरों का तैनाती ब्योरा मांगा गया है कि अब तक की सेवा में वह कहां पर और कब नियुक्त रहे हैं। इस प्रक्रिया के बाद यह चर्चा तेज थी कि शायद भाजपा सरकार अफसरों की कुंडली के आधार पर बदलाव करेगी और उन अफसरों को नई जगहों पर तैनाती मिलेगी, जो इधर वर्ष से हाशिए पर रहे हैं, क्योंकि सेवा ब्योरा से यह स्पष्ट हो जाएगा कि वह किस सरकार के चहेते रहे हैं। 1सभी ने इस प्रक्रिया को पूरा किया, लेकिन फेरबदल में सिर्फ विकल्प प्रक्रिया को ही आधार बनाकर तबादले हुए, सेवा ब्योरा सिर्फ कंप्यूटर में दर्ज कर दिया गया। इससे गिने-चुने नए अफसरों को ही मौका मिला, अधिकांश पुराने अधिकारी मनचाही तैनाती पाने में सफल रहे।1विभाग के समूह ‘क’ संवर्ग में जिला विद्यालय निरीक्षक, उप प्राचार्य डायट, सहायक शिक्षा निदेशक मंडलीय बेसिक, सहायक शिक्षा निदेशक निदेशालय, वरिष्ठ प्रोफेसर राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान, रीडर सीपीआइ इलाहाबाद, संयुक्त सचिव बेसिक शिक्षा परिषद, अपर सचिव शोध व अपर सचिव प्रशासन माध्यमिक शिक्षा परिषद, रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाएं जैसे पद हैं। इन पदों पर घूम-फिर कर वही अफसर इस समय भी तैनात हैं, जो सपा व बसपा कार्यकाल में रहे हैं।1 इसी तरह से समूह ‘ख’ में बेसिक शिक्षा अधिकारी, वरिष्ठ प्रवक्ता डायट, प्रधानाचार्य राजकीय इंटर कालेज, सहायक उप शिक्षा निदेशक, प्रोफेसर राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान, उप सचिव यूपी बोर्ड, सह जिला विद्यालय निरीक्षक, विधि अधिकारी, वैयक्तिक सहायक (निदेशक) व प्रवक्ता सीपीआइ जैसे पदों का भी यही हाल है। यही नहीं नियमित फेरबदल की सूची विभागाध्यक्ष के बजाए शासन स्तर से जारी की गई, फिर भी उनमें तमाम खामियां हैं। अफसरों ने इसकी शिकायतें भी की, लेकिन उनकी अनसुनी की गई है। इससे बदलाव की उम्मीदों पर पानी फिर गया है।1’>>मा. शिक्षा महकमे में अफसरों का फेरबदल विकल्प के अनुसार1’>> समूह ‘क’ व ‘ख’ वर्गो में पहले से तैनात अफसरों को ही मौका1



uptet | up tet | uptet latest news | uptet news | only4uptet | primary ka master | basic shiksha parishad | basic siksha parishad | basic shiksha | shiksha mitra | shikshamitra latest news | shikshamitra news | uptet 2011 | uptet syllabus | uptet syllabus 2016 | uptetnews | uptet 2016 | uptet 2016 result | uptet result | uptet 2016 admit card | up basic shiksha parishad | shikshamitra

विकल्प से छिना अफसरों का हक, मा. शिक्षा महकमे में अफसरों का फेरबदल विकल्प के अनुसार Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS

updatemarts