वेबसाइट में खोजें

शिक्षामित्र स्टेट प्रेसिडेंट के घर छापा, जिलाध्यक्ष का हाथ-पैर पकड़ उठा ले गई पुलिस

लखनऊ. यहां मानदेय बढ़ाने सहित कई अन्य मांगों को लेकर शिक्षामित्रों और योगी सरकार के बीच टकराव कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के स्टेट प्रेसिडेंट जितेन्द्र शाही के कुशीनगर स्थित आवास और उनके ससुराल में जिला प्रशासन की टीम ने देर रात छापा मारा। वहीं श‍िक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष अख‍िलेश चतुर्वेदी को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। छापेमारी के दौरान जितेन्द्र को पुलिस खोज नहीं पाई। जिसके बाद पुलिस उनके घरवालों को वार्निंग देकर वापस लौट गई। शिक्षामित्रों ने योगी सरकार पर आवाज दबाने का आरोप लगाया है।

ये है मामला...

- सुप्रीम कोर्ट से समायोजन कैंसिल होने के बाद से शिक्षामित्र योगी सरकार से मानदेय 3500 रूपए बढ़ाकर 39 हजार रूपए करने की मांग को लेकर एक बार फिर से आन्दोलन शुरू कर दिया है।

- मानदेय बढ़ाने, अध्यादेश लाकर शिक्षामित्रों का समायोजन करने सहित कई अन्य मुद्दों पर शिक्षामित्रों की सीएम और अपर सचिव बेसिक शिक्षा, राज प्रताप से अब तक कुल 3 बार वार्ता हुई थी। इसके बाद योगी सरकार ने कैबिनेट मीटिंग कर शिक्षामित्रों को मानदेय 10 हजार रूपए तय कर दिया।

- जबकि शिक्षामित्र अभी भी 39 हजार रूपए मानदेय की मांग पर अड़े हुए है। उन्होंने सरकार के साथ हुई अब तक की वार्ताओं को बेनतीजा बताया। उनका कहना है शिक्षामित्र तो पहले दिन से ही 39 हजार मानदेय की मांग कर रहे है। ऐसे में कैबिनेट में दस हजार रूपये मानदेय तय करने का क्या औचित्य है?

- मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर बुधवार को शिक्षामित्रों ने प्रदेश भर के डिस्ट्रिक्ट हेड क्वाटर पर धरना प्रदर्शन किया। वहीं गुरूवार को दूसरे दिन भी शिक्षामित्रों का ये प्रदर्शन जारी रहा। लखनऊ में शिक्षामित्र डायट ऑफिस पर आज भी धरने पर बने हुए है।

शिक्षामित्रों की आवाज दबाने की हो रही कोश‍िश
- आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसियेशन के स्टेट प्रेसिडेंट जितेन्द्र शाही ने कहा, ''योगी सरकार शिक्षामित्रों की आवाज दबाने की कोशिश कर रही है। इसलिए बुधवार रात में सोची समझी रणनीति क तहत सरकार के आदेश पर डीएम, एसपी ने कुशीनगर स्थित मेरे आवास और ससुराल में दोनों स्थानों पर छापा मारा था।''

- ''लेकिन वे मुझें पकड़ नहीं पाए। उन्होंने मेरे परिवार के लोगों को परेशान किया। ये ठीक बात नहीं है। पुलिस ने अगर किसी भी शिक्षामित्र के परिवार को बेवजह तंग करने की कोशिश कि तो हम और उग्र आन्दोलन करने पर विचार कर सकते है। इसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।''

- कुशीनगर SP यमुना प्रसाद ने कहा, ''कुछ लोगों को प्रदर्शन के दौरान लोगों हिरासत में लिया गया है। प्रदर्शनकार‍ियों से शांति बनाएं रखने की अपील की है।''

शिक्षामित्र स्टेट प्रेसिडेंट के घर छापा, जिलाध्यक्ष का हाथ-पैर पकड़ उठा ले गई पुलिस Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS