वेबसाइट में खोजें

Saturday, October 7, 2017

एक लाख स्कूलों में छात्रों का टोटा: स्कूलों में बच्चों की घटती संख्या को लेकर केंद्र सरकार चिंतित

देश के दक्षिणी एवं पर्वतीय राज्यों में स्कूल ज्यादा हो गए हैं और बच्चे तेजी से घट रहे हैं। करीब एक लाख स्कूल ऐसे हैं जहां छात्रों का टोटा है। इन्हें बंद करना ही बेहतर विकल्प माना जा रहा है। नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट
में कहा है कि इन स्कूलों में बच्चों को पढ़ाने का खर्च निजी स्कूलों से भी ज्यादा है।रिपोर्ट के अनुसार देश में तकरीबन एक लाख स्कूलों में बच्चों की संख्या औसतन 12.7 है। सरकार इन स्कूलों के संचालन और वेतन पर 9440 करोड़ रुपये का खर्च कर रही है। प्रति बच्चे पर सालाना खर्च औसतन 80 हजार रुपये है। केंद्रीय विद्यालयों में प्रति बच्चे पर करीब 30 हजार रुपये सालाना खर्च है।साढ़े तीन लाख और स्कूल भी संकट में : इन एक लाख स्कूलों की समस्या तो गंभीर है, लेकिन 3.70 लाख स्कूल ऐसे भी हैं, जिनमें औसत छात्र संख्या 29 है। इन स्कूलों के सालाना वेतन का व्यय 41,630 करोड़ और प्रति छात्र लागत 40,800 रुपये है।
राज्य कर रहे प्रयास
स्कूलों में बच्चों की घटती संख्या को लेकर केंद्र सरकार चिंतित है। केंद्र ने राज्यों से इनोवेटिव मॉडल अपनाने को कहा है। उत्तराखंड, राजस्थान समेत कई राज्य नए प्रयोग कर रहे हैं। उत्तराखंड में कम बच्चों वाले चार-पांच स्कूलों को मिलाकर एक स्कूल किया जा रहा है।
14.49 लाख देश में कुल स्कूलों की संख्या
20 करोड़ इनमें पढ़ने वाले बच्चों की संख्या
3.34लाख निजी स्कूल देशभर में
10.76 लाख कुल सरकारी स्कूल



uptet | up tet | uptet latest news | uptet news | only4uptet | primary ka master | basic shiksha parishad | basic siksha parishad | basic shiksha | shiksha mitra | shikshamitra latest news | shikshamitra news | uptet 2011 | uptet syllabus | uptet syllabus 2016 | uptetnews | uptet 2016 | uptet 2016 result | uptet result | uptet 2016 admit card | up basic shiksha parishad | shikshamitra

एक लाख स्कूलों में छात्रों का टोटा: स्कूलों में बच्चों की घटती संख्या को लेकर केंद्र सरकार चिंतित Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

आयुर्वेद हेल्थ टिप्स डेली

RELATED POSTS