वेबसाइट में सर्च करें

UPTET 72825 - 841 मामले की सुनवाई 23 अक्टूबर को माननीय तरुण अग्रवाल जी की बेंच में होगी

UPDATEMART वेबसाइट से फेसबुक पर जुडें

Oct 5, 2017

अब बायोमीटिक जीपीएस एप से हाजिरी लगाएंगे शिक्षक, शिक्षा विभाग का गुणवत्ता सुधारने को नया प्रयोग

जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : विद्यालयों में शिक्षकों की समय से उपस्थिति सुनिश्चित करने को शिक्षा विभाग नए-नए प्रयोग कर रहा। अभी एसएमएस से सूचना भेजने की व्यवस्था को बदलते हुए अब बायोमीटिक जीपीएस एप अपनाया जाएगा। शिक्षक इसी एप से अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगे। स्कूलों में बिजली की समस्या के मद्देनजर आइआइटी कानपुर ने इस विशेष एप को विकसित किया है। मंडलायुक्त के निर्देश पर जिले में इसकी शुरुआत रसूलाबाद तहसील से होने जा रही है। 1आइआइटी कानपुर के कंप्यूटर साइंस विभाग में बायोमीटिक पर पर काम कर रहे दीपांशू ने बताया कि दूर दराज के विद्यालयों में बिजली की समस्या देखते हुए बायोमीटिक व्यवस्था को एंड्रायड एप में बदला है। इसमें जीपीएस व्यवस्था को भी जोड़ा गया है। एंड्रायड यदि विद्यालय परिसर के अंदर रहेगा तो ही हाजिरी लगेगी। परिसर से बाहर होने पर जीपीएस हाजिरी नहीं लेगा। शुरुआती व्यवस्था के लिए जिस क्षेत्र के विद्यालय में इस एप के जरिए हाजिरी होगी, वहां के एनपीआरसी (न्याय पंचायत समन्वयक) को एंड्रायड मशीन दी जाएगी। एनपीआरसी समय से विद्यालय पहुंच कर अध्यापकों की हाजिरी सुनिश्चित करेंगे। बीएसए पवन कुमार ने बताया कि मंडलायुक्त पीके मोहंती ने रसूलाबाद तहसील से इस व्यवस्था की शुरुआत करने का निर्देश दिया है। तहसील में 260 प्राथमिक और 100 उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं। यहां सफल संचालन के बाद इसे पूरे जिले में लागू किया जाएगा।’ रसूलाबाद तहसील के स्कूलों से शुरू होगी व्यवस्था1’ आइआइटी कानपुर ने विकसित किया एंड्रायड एप

अब बायोमीटिक जीपीएस एप से हाजिरी लगाएंगे शिक्षक, शिक्षा विभाग का गुणवत्ता सुधारने को नया प्रयोग Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS