वेबसाइट में खोजें

Friday, October 13, 2017

शैक्षिक संस्थानों में शुचिता जरूरी

शिक्षा के मंदिरों में पिछले कुछ महीनों में ऐसी घटनाएं हुईं जिनसे उनकी साख को बेहद धक्का पहुंचा है। बनारस हंिदूू यूनिवर्सिटी में छात्रओं से छेड़खानी का मामला हो या कानपुर आइआइटी में रैगिंग करने वाले 22
छात्रों को निलंबित करने का, इन सवालों को हल करने की गंभीरता पर प्रश्नचिह्न् खड़े हो गए हैं। लखनऊ स्थित किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) चिकित्सा के क्षेत्र में एक बड़ा नाम है। हजारों छात्र-छात्रएं यहां पढ़ाई तो करते ही हैं, न जाने कितने मरीजों का इलाज भी किया जाता है। यहां इलाज कराने आईं दो महिलाओं के साथ रात में दुष्कर्म का प्रयास किया गया। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी दी गई। नाराज परिवारीजन ने मिलकर आरोपित को पीटा और पुलिस के हवाले कर दिया। इस घटना ने केजीएमयू की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं। संदेश गया कि पड़ोसी जिलों से लखनऊ में आकर इलाज कराने वालीं महिलाएं केजीएमयू कैंपस में सुरक्षित नहीं। ऐसे मामलों में पीड़ित महिलाएं ज्यादातर गरीब तबके की ही होती हैं, जिनके पास होटल या धर्मशाला में रुकने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं होते इसलिए वे अस्पताल परिसर में ही फर्श पर रात गुजार लेती हैं। केजीएमयू में इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं। प्रदेश के सबसे बड़े राजकीय अस्पताल बलरामपुर में भी ऐसी कई घटनाएं हुईं। हर बार संबंधित प्रशासन अपने परिसर की सुरक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने का दावा करता है लेकिन, बाद में भूल जाता है। 1प्रदेश में जितने भी बड़े शैक्षिक संस्थान हैं, उन्हें अपनी साख और विश्वसनीयता बनाने में लंबा समय लगा है। छात्र-छात्रएं यहां प्रवेश लेकर अपना भविष्य संवारने आते हैं। वे यहां परिसर में रहकर जीवन के ऐसे सबक सीखते हैं जो आगे उन्हें बहुत काम आता है। शैक्षिक संस्थानों में कदाचार होने लगता है तो विद्यार्थियों की मनोदशा पर विपरीत असर पड़ता है। अभिभावक बहुत भरोसे के साथ अपने बच्चों को पढ़ने के लिए भेजते हैं। मेडिकल या इंजीनियरिंग परिसर बहुत सुरक्षित माने जाते हैं परंतु जब वहां भी ¨हसक घटनाएं होती हैं या रोगियों के साथ अमानवीय बरताव होता है तो बहुत लोगों पर सवाल खड़े होते हैं। यह राज्य सरकार को भी देखना चाहिए कि ऐसी एक घटना होने के बाद संस्थान ने कार्रवाई क्या की।

shikshamitra | uptet | up tet | uptet latest news | uptet news | only4uptet | primary ka master | basic shiksha parishad | basic siksha parishad | basic shiksha | shiksha mitra | shikshamitra latest news | shikshamitra news | uptet 2011 | uptet syllabus | uptet syllabus 2017 | uptetnews | uptet 2017 | uptet 2017 result | uptet result | uptet 2017 admit card | up basic shiksha parishad |

शैक्षिक संस्थानों में शुचिता जरूरी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

आयुर्वेद हेल्थ टिप्स डेली

RELATED POSTS