वेबसाइट में खोजें

विश्लेषण:-शिक्षामित्र केस 25 जुलाई से अब तक, संयुक्त सक्रिय टीम उत्तर प्रदेश की कलम से


विष्लेषण:-25 जुलाई से अब तक।
साथियों माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा विगत 25 जुलाई को उत्तर प्रदेश की लम्बित एवं विवादित शिक्षक भर्ती में अंतिम निर्णय दिया यद्यपि जिस बेंच मे हमारे केस का निस्तारण हुआ उसे सुप्रीम कोर्ट की भाषा में"स्लाटर हाउस"कहा जाता है इस फाएनल सुनवाई में शिक्षा मित्रों की तरफ से संयुक्त सक्रिय टीम ने मजबूती से प्रसिद्ध अधिवक्ताओ द्वारा अपने पक्ष को रखा और बहस के दौरान कोर्ट को संतुष्ट किया लेकिन अंततः हमें हार का सामना करना पड़ा।देश के स्लाटर हाउस ने हमें प्रदेश के स्लाटर हाउस में भेज दिया और अभी तक हम उसी मे पिसते चले जा रहे हैं विगत दिनों में टीम के ऊपर विश्वास करने वाले साथियों द्वारा निराशा प्रकट की गई कि टीम प्रयास में पीछे चल रही है तो यह पोस्ट लिखना पड़ा लोगों को यह विश्वास होना चाहिए कि टीम ने जिम्मेदारी से हर स्तर पर जीतने के लिए लडाई लड़ी औऱ अपेक्षाकृत परिणाम हमारे पक्ष में नहीं रहा तो मनुष्य की स्वाभाविक प्रकृति के कारण थोड़ी बहुत निराशा हुई क्योंकि जो विद्यार्थी पूरे मनोयोग से परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए रात दिन एक करके परिश्रम करता है और असफल हो जाता है तो वह बहुत ही असहज महसूस करता है कहने के लिए टीम पूरी तरह से सभी के लिए लडाई लड़ रही थी आज भी टीम लगातार माननीय कोर्ट में रिव्यू के प्रति सचेत है लेकिन बिना रिब्यू निस्तारण के कोई भी कदम उठाने में अक्षम है इसलिए सभी लोग विश्वास रखें रिव्यू खारिज होने से पहले कुछ नहीं किया जा सकता है और झूठी भविष्यवाणी से आपको गुमराह किया जा सकता है लेकिन खुद को नहीं।ऐसे में जो सच है उसे नकारा नहीं जा सकता है हमारे पास सिर्फ यही नौकरी जीवन जीने का आधार है और इसके लिए हम अपने सीमित संसाधनों से न्याय पाने तक संघर्ष जारी रखेंगे लेकिन किसी के भावनाओं से खेलकर झूठे आश्वासन देकर नहीं।रिब्यू के निस्तारण तक इंतजार करें और उसके बाद क्यूरेटिव पिटीशन के तहत आगे बढ़ने का प्रयास होगा तब तक अफवाहों से दूर रहे और जो लोग टी ई टी उत्तीर्ण हो गए हैं आने वाली लिखित परीक्षा में प्रतिभाग करें हलांकि लिखित परीक्षा को भी कोर्ट में चैलेंज किया जाएगा क्योंकि यह सरकार द्वारा जबर्दस्ती थोपा जा रहा है।शिक्षा मित्र का जीवन ही संघर्ष से युक्त है और संघर्ष ही एक मात्र आधार है अधिकारों की प्राप्ति के लिए।परिवर्तन प्रकृति का नियम है और अँधेरा के बाद उजाला होता है इसलिए उम्मीद रखें और आगे बढ़ें।धन्यवाद।संयुक्त सक्रिय टीम उत्तर प्रदेश।

विश्लेषण:-शिक्षामित्र केस 25 जुलाई से अब तक, संयुक्त सक्रिय टीम उत्तर प्रदेश की कलम से Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS