वेबसाइट में खोजें

434 पीपीएस अफसरों की स्क्रीनिंग, तीन खतरे में


पुलिस महकमे में 50 की उम्र पार कर चुके व नकारा अधिकारियों को चिह्न्ति किए जाने की कड़ी में 434 पीपीएस अधिकारियों की स्क्रीनिंग की गई। प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार की अध्यक्षता में गुरुवार को स्क्रीनिंग कमेटी की अहम बैठक हुई, जिसमें 118 एएसपी व 316 डिप्टी एसपी की स्क्रीनिंग की गई। बैठक में प्रमुख सचिव नियुक्ति दीपक त्रिवेदी व डीजीपी सुलखान सिंह सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।1सूत्रों के मुताबिक तीन अधिकारियों को चिह्न्ति किया गया है, जिनकी बर्खास्तगी की तैयारी है। कुछ अन्य के नाम पर भी विचार चल रहा है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि स्क्रीनिंग पूरी कर ली गई है। अंतिम निर्णय शासन स्तर पर होगा। जल्द ही मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आइपीएस अधिकारियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। इसके लिए कमेटी का गठन किया जा रहा है। नवंबर माह के अंतिम सप्ताह तक आइपीएस अधिकारियों की स्क्रीनिंग भी पूरी कर ली जाएगी।1स्क्रीनिंग कमेटी ने बैठक में 50 की उम्र पार कर चुके चिह्न्ति पीपीएस अधिकारियों के कैरेक्टर रोल से लेकर उनकी कार्यशैली व प्रदर्शन का ब्योरा देखा। खासकर पिछले 10 सालों में अधिकारियों का सर्विस रिकार्ड देखा गया कि इस अवधि में उनकी कार्यशैली किस प्रकार की रही। किस अधिकारी पर किस प्रकार के आरोप लगे और किसे किन मामलों में दंडित किया गया। किस पर बार-बार आरोप लगते रहे। कितनों के खिलाफ किस प्रकार की विभागीय जांचें की गईं और उनमें उनकी भूमिका किस हद तक दोषी पाई गई। इसी आधार पर दागी व नकारा अधिकारियों को तलाशा जा रहा है। ताकि उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जा सके। 1बताया गया कि प्रदेश में पीपीएस कैडर के 1200 से अधिक अधिकारी हैं। ऐसे में इस कैडर के करीब एक तिहाई अधिकारियों की स्क्रीनिंग से हड़कंप मचा है। दूसरी ओर डीजीपी मुख्यालय स्तर पर 50 की उम्र पार कर चुके नकारा व दागी इंस्पेक्टर, उपनिरीक्षक, दीवान व सिपाही को चिह्न्ति करने की प्रकिया चल रही है।


434 पीपीएस अफसरों की स्क्रीनिंग, तीन खतरे में Rating: 4.5 Diposkan Oleh: amit gangwar

0 comments:

Post a Comment

RELATED POSTS