29 December 2015

अंशकालिक अनुदेशकों ने मांगा स्थायी समायोजन

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्तर्गत उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तैनात अंशकालिक अनुदेशकों ने सरकार से पूर्णकालिक स्थायी समायोजन की मांग की है। लक्ष्मण मेला मैदान में धरना व आमरण अनशन
करके सैकड़ों अनुदेशकों ने सरकार को चेतावनी दी है कि जब तक उन्हें पूर्णकालिक नहीं किया जाएगा तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा।
पूर्व माध्यमिक अनुदेशक कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष राकेश पटेल ने कहा कि कई बार के आश्वासन के बाद भी सरकार ने प्रदेशभर के अंशकालिक अनुदेशकों को पूर्णकालिक नहीं कर रही है। इससे अनुदेशकों में काफी निराशा है। उन्होंने बताया कि आमरण अनशन पर बैठे अनुदेशकों की तबियत भी खराब हो रही है, लेकिन सरकार को कोई परवाह नहीं है। आमरण अनशन पर बैठने वालों में मुख्य रूप से राकेश, धर्मेद्र शर्मा, अंजू, शिखा सिंह, बबिता अमित वर्मा, संजय वर्मा, राकेश पाल हेमेंद्र कुमार, विनोद वर्मा, बालमुकुंद, बैजनाथ शामिल हैं। अनुदेशकों की मांग हैं कि उन्हें पूर्णकालिक करते हुए समायोजित किया जाए, 100 बच्चों की नामांकन बाध्यता समाप्त की जाए, अनुदेशकों को उप्र अध्यापक सेवा नियमावली की सेवा शर्तो में जोड़ा जाए।



प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो