27.11.17

नई पेंशन नीति से छीनी जा रही बुढ़ापे की लाठी- युवाओं ने पुरानी पेंशन को ही माना उत्तम


युवाओं ने पुरानी पेंशन को ही उत्तम माना है।
पुरानी पेन्शन बहाली तो हमारे मान सम्मान की वापसी है परंतु विभिन्न संगठनों से मिल रही प्रतिक्रियाओं को सुनने के बाद अब पेन्शन की लडाई हम युवाओं के लिये सबसे बडी चुनौती है, कुछ लोगो को लगता है कि आज का युवा जिसे सोशल मीडिया जैसे फेसबुक,व्हाट्सएप्प ,मोबाइल से फ़ुर्सत नही वो क्या पुरानी पेंशन बहाली की लड़ाई लडेगें!!!
ऐसे संगठनों से मैं पूछना चाहता हूँ कि 12 वर्षों तक पुरानी पेंशन बहाली के लिए आपने क्या किया???क्यों नहीं आपने पुरानी पेंशन के पक्ष में आवाज बुलंद किया??? क्यों आप सब ने अपने मांग पत्र में नहीं रखा??अगर रखा भी तो सबसे नीचे ,आखिर ऐसा क्यों???
पूर्व की तरह आज भी आप सब की निष्क्रियता से आज का युवा बहुत चिंतित है और अपनी चिंता दूर करने अर्थात अपने बुढ़ापे को सुरक्षित करने के लिए अब खुद ही आगे आ रहा है
आज युवाओं द्वारा पुरानी पेंशन बहाली के लिए आंदोलन चलाया जा रहा है इस आंदोलन को अटेवा द्वारा पूरे उत्तर प्रदेश में चलाया जा रहा है जिसमें युवा लगातार सहयोग कर रहा है ।आज पुरानी पेंशन बहाली के लिए देश के लगभग सभी राज्यों में आंदोलन बहुत तेजी से गति पकड़ लिया है।
इस लिये मित्रो मै आप सभी युवा साथियों से अपील करता हू कि अब समय आ गया कि आप सभी पुरानी पेंशन बहाली आंदोलन में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें और पुरानी पेंशन को बहाल कराएं। क्योंकि इसी में सभी कर्मचारियों का भविष्य सुरक्षित है...............................जय युवा जय अटेवा


नई पेंशन नीति से छीनी जा रही बुढ़ापे की लाठी- युवाओं ने पुरानी पेंशन को ही माना उत्तम Rating: 4.5 Diposkan Oleh: AMIT GANGWAR

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो