27.2.18

अंग्रेजी मीडियम के लिए नहीं मिल रहे अध्यापक, जरूरत पड़ी तो आवेदन तिथि बढ़ेगी आगे: गोरखपुर


जनपद के हर ब्लाक में पांच परिषदीय विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम के रूप में संचालित किया जाना है। विद्यालयों की सूची तो तैयार कर ली गई है, लेकिन उनके लिए शिक्षक ही नहीं मिल रहे। शिक्षकों के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि तक 50 प्रतिशत से भी कम आवेदन मिले तो विभाग ने तारीख को आगे बढ़ा दिया।
जनपद के 19 ब्लाक व नगर क्षेत्र में कुल 100 परिषदीय विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम के रूप में चयनित किया गया है। शासन के निर्देश के मुताबिक विद्यालयों व शिक्षकों के चयन की प्रक्रिया मार्च महीने तक पूरी कर लेनी है और अप्रैल में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई शुरू करानी होगी। समय रहते विद्यालयों का चयन तो कर लिया गया, लेकिन शिक्षकों के चयन के लिए परेशानी हो रही है।
शिक्षक चयन के लिए बनी है कमेटी: अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों में शिक्षकों के चयन के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है। जिला विद्यालय निरीक्षक ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया इस कमेटी के अध्यक्ष हैं तथा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रामसागर पति त्रिपाठी सचिव हैं। इस कमेटी में एक अंग्रेजी के प्रवक्ता व एक विशेषज्ञ को भी शामिल किया गया है। अंग्रेजी माध्यम के शिक्षकों के चयन के लिए परिषदीय शिक्षकों से 21 फरवरी तक आवेदन आमंत्रित किए गए थे लेकिन इस तिथि तक करीब 250 आवेदन ही आ सके, जबकि इन विद्यालयों में 400 सहायक अध्यापक व 100 प्रधानाध्यापक के पद पर तैनाती करनी है। आवेदनों की कम संख्या को देखते हुए बीएसए ने अंतिम तिथि 28 फरवरी तक बढ़ा दी है। विभागीय सूत्रों की मानें तो अब अधिक आवेदन आने की संभावना काफी कम है।
जनपद में 100 विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम के रूप में किया गया है चयनित शिक्षकों के 500 पदों के सापेक्ष अंतिम तिथि तक 50 प्रतिशत आवेदन ही आए बढ़ाई गई समय सीमाअंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों की सूची तैयार कर ली गई है। शिक्षकों से आवेदन आमंत्रित किए गए हैं,आवेदन करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित भी किया जा रहा है। जरूरत पड़ी तो तिथि को और आगे बढ़ाया जाएगा।रामसागर पति त्रिपाठी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, गोरखपुर

अंग्रेजी मीडियम के लिए नहीं मिल रहे अध्यापक, जरूरत पड़ी तो आवेदन तिथि बढ़ेगी आगे: गोरखपुर Rating: 4.5 Diposkan Oleh: AMIT GANGWAR

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो