🔎Search Me

01 April 2018

परीक्षा केंद्रों तक से भी अनभिज्ञ था यूपीपीसीएल, ऑनलाइन परीक्षा में धांधली का मामला, एसटीएफ ने शासन को भेजी विस्तृत रिपोर्ट


लखनऊ : उप्र पावर कापरेरेशन लिमिटेड (यूपीपीसीएल) ने अवर अभियंता सहित अन्य महत्वपूर्ण पदों की परीक्षा को पूरी तरह से निजी संस्था एपटेक के भरोसे ही छोड़ दिया था। यूपीपीसीएल के अधिकारी परीक्षाकेंद्रों के चयन तक से दूर थे। उन्होंने परीक्षा के दौरान परीक्षा केंद्रों का पर्यवेक्षण तक मुनासिब नहीं समझा था। स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने अपनी विस्तृत रिपोर्ट में यूपीपीसीएल व एपटेक के स्तर पर बरती गई का सिलसिलेवार जिक्र किया है। विस्तृत रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है। उल्लेखनीय है कि परीक्षा में धांधली उजागर होने पर सरकार परीक्षा रद करने के साथ ही एपटेक को ब्लैक लिस्ट कर चुकी है।

माना जा रहा है कि विद्युत सेवा आयोग के अध्यक्ष एके सक्सेना व सचिव जीसी द्विवेदी के निलंबन के बाद परीक्षा समिति से जुड़े अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों पर भी गाज गिर सकती है। प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उप्र पावर कापरेरेशन के अध्यक्ष आलोक कुमार इसके संकेत दे चुके हैं। एसटीएफ ने रिपोर्ट दो भाग में तैयार की है। पहले भाग में परीक्षा में नकल की आपराधिक गतिविधि को रखा गया है। मामले में की गई जांच व कार्रवाई का विवरण दिया गया है। गिरोह ने किस तरह नकल कराई, इसकी पूरी जानकारी भी दी गई है। रिपोर्ट के दूसरे भाग में परीक्षा की सुरक्षा में हुई चूक को सिलसिलेवार बताया गया है। फुल प्रूफ परीक्षा के जो वादे किए गए थे, एपटेक ने उनका उल्लंघन किया। दूसरी ओर यूपीपीसीएल की परीक्षा समिति की भूमिका परीक्षाकेंद्र तय करने तक में नहीं थी। प्रश्नपत्र तैयार करने से लेकर परीक्षा से जुड़े अन्य बिंदुओं से यूपीपीसीएल पूरी तरह अनभिज्ञ था। बताया गया कि परीक्षाकेंद्रों में यूपीपीसीएल के अधिकारियों की भी ड्यूटी लगनी थी, लेकिन परीक्षा के दौरान ऐसा नहीं हुआ। यूपीपीसीएलन के अधिकारी एसटीएफ को परीक्षाकेंद्रों का डाटा तक उपलब्ध नहीं करा सके थे। एसटीएफ एपटेक के अधिकारियों/कर्मचारियोंकी भूमिका भी सिलसिलेवार खंगाल रही है। शासन के निर्देश पर गठित एसटीएफ की एसआइटी ने यूपीपीसीएल की ऑनलाइन परीक्षा में धांधली की जांच की थी। एसटीएफ ने 28 मार्च को 12 आरोपितों को गिरफ्तार कर पेपर लीक व ऑनलाइन नकल कराए जाने का राजफाश किया था।

पेपर लीक में फंस सकते हैं एपटेक के अधिकारी : एसटीएफ की जांच में सामने आया है कि परीक्षा के पेपर एपटेक ने ही बनवाए थे। ऐसे में एसटीएफ के सामने सबसे अहम सवाल यही है कि पेपर लीक कहां से और किस स्तर पर हुआ। पूरे मामले में एपटेक की भूमिका संदेह के घेरे में है। 1सर्वर इमेज की जांच शुरू1एसटीएफ ने अपटेक के मुंबई स्थित सर्वर की इमेज कब्जे में लेकर छानबीन शुरू कर दी है। जल्द ही इमेज को फोरेंसिक जांच के लिए भिजवाया जाएगा।पेपर लीक को लेकर कई स्तर पर एपटेक कर्मियों की जांच कराई जा रही है। पेपर लीक के मुख्य सरगना परमिंदर के पकड़े जाने पर कई राज उजागर हो सकते हैं।
अभिषेक सिंह, एसएसपी एसटीएफ


प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो