Apr 4, 2018

शिक्षकों की कमी के बीच स्कूलों में नया सत्र शुरू


इलाहाबाद।यूपी बोर्ड का 2018-19 शैक्षिक सत्र शुरू होने के साथ ही पूरे प्रदेश में राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) के पैटर्न पर आधारित किताबें पहुंचने लगी हैं। खास बात यह कि 18 विषयों की 31 नई किताबों की कीमत एनसीईआरटी से 50 या 60 फीसदी तक कम है।कक्षा नौ के लिए निर्धारित 60 पेज की अर्थशा� की किताब महज 11 रुपये में मिलेगी। 31 किताबों में सबसे महंगी 11वीं गणित की है। 520 पेज की किताब की कीमत 76 रुपये है। 120 पेज वाली 11वीं की भौतिक पर्यावरण की किताब 20 रुपये में ही मिल जाएगी।144 पेज की 11वीं की अर्थशा� में सांख्यिकी और 132 पेज की भूगोल में प्रायोगिक कार्य की किताब सिर्फ 22 रुपये में बिकेगी। 356 पेज की 11वीं जीव विज्ञान की किताब 74 रुपये की है। पुराने पैटर्न की 13 विषयों की किताबें मार्केट में आने में थोड़ा समय लगेगा। पिछले साल तक पन्ने 60 जीएसएम व कवर पेज 175 जीएसएम का होता था। लेकिन इस साल सभी 31 विषयों की किताबों में पेज 80 जीएसएम और कवर पेज 220 जीएसएम का है।

इलाहाबाद। आरटीई के तहत तीन साल में प्राइवेट अंग्रेजी स्कूल में प्रवेश पाने वाले बच्चों की संख्या 690 है। इस साल भी प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू हो गया है। कक्षा एक और प्री-प्राइमरी कक्षाओं (नर्सरी, एलकेजी, यूकेजी) में दाखिले के लिए पहले चरण में 14 फरवरी से 15 मार्च तक आवेदन लिये गये थे। कुल 300 ऑनलाइन आवेदन मिले जिनमें से 162 बच्चों के प्रवेश की प्रक्रिया चल रही है। दूसरे चरण में 16 मार्च से 15 अप्रैल तक आवेदन, 20 अप्रैल तक सत्यापन और 25 अप्रैल तक स्कूल आवंटन होगा। दूसरे चरण का प्रवेश एक मई तक होगा। तीसरे चरण में 16 अप्रैल से 10 मई तक आवेदन, 13 मई तक सत्यापन, 15 मई तक आवंटन और 18 मई तक प्रवेश होगा।

एनसीईआरटी पैटर्न पर आधारित किताबें मार्केट में भेजी जा रही हैं। हमने कम से कम कीमत पर गुणवत्तापूर्ण किताबें उपलब्ध कराने का प्रयास किया है।-नीना श्रीवास्तव, सचिव यूपी बोर्ड

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो