🔎Search Me

29 June 2018

बीएलओ ड्यूटी के खिलाफ शिक्षामित्रों ने किया प्रदर्शन, सरकार पर शिक्षामित्रों ने लगाया उत्पीड़न का आरोप


बाराबंकी : बूथ लेबल अफसर (बीएलओ) की ड्यूटी के खिलाफ शिक्षामित्रों ने गुरुवार को जिला कार्यालय कार्यालय परिसर में धरना-प्रदर्शन कर डीएम को संबोधित ज्ञापन अतिरिक्त मजिस्ट्रेट को सौंपा। 1ज्ञापन में बीएलओ ड्यूटी से हटाए जाने के पक्ष में तर्क दिया गया है कि मतदाता सूची बनाने का काम बीएलओ को करना होता है। पहले शिक्षामित्रों की तैनाती उनके ही गांव में थी पर शिक्षक पद पर समायोजन के बाद शिक्षामित्र अपने गांव से हटाकर दूसरे ब्लॉकों के प्राथमिक स्कूलों में तैनात किए गए। ऐसे में लंबी दूरी तय कर बीएलओ कार्य करने में परेशानी होती है। यह भी कहा गया है कि समायोजन रद्द होने के बाद शिक्षामित्रों अवसाद से ग्रसित हैं। कई शिक्षामित्रों की मौत हो चुकी है। इन परिस्थितियों में बीएलओ ड्यूटी से सभी शिक्षामित्रों को हटाया जाना चाहिए।
प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के जिलाध्यक्ष विनोद कुमार वर्मा ने कहा कि सरकार शिक्षामित्रों का उत्पीड़न कर रही है। जून माह का मानदेय भी नहीं दिया और अधिकांश शिक्षामित्रों की ड्यूटी बीएलओ पद पर लगा दी। अधिकांश लोक शिक्षा शिक्षा प्रेरक बीएलओ का काम करते थे जिनका रिनीवल नहीं किया। शिक्षा प्रेरकों को रिनीवल कर दिया जाए तो उनकी रोजी-रोटी बनी रहेगी और बीएलओ कार्य भी हो जाएगा। 1प्रदर्शन में उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा, रोहित त्रिपाठी, रामशंकर राठौर, धमेंद्र वर्मा, हरि प्रकाश शुक्ला, दिनेश पटेल, बजरंग रावत आदि शामिल थे।


प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो