🔎Search Me

01 September 2018

शिक्षक भर्ती से बाहर अभ्यर्थी रातों-रात लखनऊ रवाना: डैमेज कंट्रोल के मूड में सरकार, एसीएस ने दिया आश्वासन


68500 सहायक अध्यापक भर्ती से बाहर हुए 5696 अभ्यर्थियों में जबर्दस्त आक्रोश है। शुक्रवार दोपहर बाद जिला आवंटन सूची जारी होने के बाद सफल अभ्यर्थियों के बाहर होने की खबर मिनटों में फैल गई। अचयनित अभ्यर्थियों ने देखते ही देखते कई व्हाट्सएप ग्रुप बनाए और एकजुट होकर विभिन्न जिलों से लखनऊ के लिए रातों-रात रवाना हो गए।


ये अभ्यर्थी शनिवार को एससीईआरटी कार्यालय लखनऊ पर धरना देने जा रहे हैं। अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट जाने की चेतावनी दी है और वरिष्ठ अधिवक्ताओं से संपर्क भी कर लिया है। अभ्यर्थियों का कहना है कि अपर मुख्य सचिव डॉ. प्रभात कुमार ने ट्वीट करके लिखित परीक्षा में सफल सभी अभ्यर्थियों का चयन सुनिश्चित होने का आश्वासन दिया था। लेकिन अंतिम समय में आरक्षण नियम लागू होने के बाद शुक्रवार को जारी लिस्ट में 5696 अभ्यर्थी बाहर हो गये।

पीयूष शुक्ला, शालिनी त्रिपाठी, शिवम मिश्रा, तृषा सेठ, कुलदीप द्विवेदी, क्षमा पांडेय, दीपिका मिश्रा, श्वेता सिंह, संदीप तिवारी आदि का कहना है कि जिलों में बड़ी संख्या में सीटें खाली है। साजिश के तहत सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को बाहर किया गया है। इस अत्याचार को नहीं सहेंगे और सूची में जल्द संशोधन नहीं हुआ तो बड़े पैमाने पर आंदोलन किया जाएगा।

डैमेज कंट्रोल के मूड में सरकार, एसीएस ने दिया आश्वासन

इलाहाबाद। 5696 अभ्यर्थियों के बाहर होने और उसके बाद पनपे आक्रोश के बाद से सरकार बैकफुट पर आ गई है। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार ने शुक्रवार की शाम अपने ट्वीट में लिखा है कि बचे हुए 5696 अभ्यर्थियों को भी नियुक्ति दी जाएगी। एनआईसी से इन अभ्यर्थियों को वर्गीकृत करने को कहा है ताकि आवश्यक कदम उठाए जा सके। उन्होंने अभ्यर्थियों को भरोसा दिलाया है कि चिंता करने की बात नहीं है। सरकार उनका ध्यान रख रही है।

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो