Oct 30, 2018

अब अल्पसंख्यक कोटे की सीट दूसरे को नहीं दे सकेंगे बीएड कॉलेज, सीट के नाम पर डोनेशन और वसूली का अब नहीं चल सकेगा खेल


अल्पसंख्यक बीएड कॉलेजों में अल्पसंख्यक कोटे की सीट के नाम पर डोनेशन और वसूली का खेल अब नहीं चल सकेगा। शासन ने अल्पसंख्यक कोटे की सीटों पर गैर अल्पसंख्यक अभ्यर्थियों के दाखिले पर रोक लगा दी है। सीटें खाली रहने पर उन्हें विश्वविद्यालय की ओर से तय प्रक्रिया से ही भरा जा सकेगा। अब तक कॉलेज सीधे दाखिला ले लेते थे। अपर मुख्य सचिव अनिता भटनागर जैन ने इस संदर्भ में आदेश जारी कर दिया है।

अल्पसंख्यक कॉलेजों में बीएड की 50% सीटों पर प्रबंधतंत्र अपने स्तर से प्रवेश ले सकता है। यह व्यवस्था इसलिए की गई थी जिससे प्रबंधतंत्र संबंधित अल्पसंख्यक समुदाय जिसके कल्याण के लिए कॉलेज स्थापित किया है, उस समुदाय के छात्र-छात्राओं को शिक्षा दे सके, लेकिन कॉलेजों ने अल्पसंख्यक समुदाय के छात्र न मिलने का बहाना लेकर गैर अल्पसंख्यक छात्रों को सीटें बेचनी शुरू कर दी।

 शासन को इस संदर्भ में मिली शिकायतों के बाद अब पॉलिसी में संशोधन कर दिया गया है। कॉलेज अल्पसंख्यक कोटे की सीटों पर संबंधित समुदाय के अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं का ही दाखिला ले सकेंगे।

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो