🔎Search Me

Oct 11, 2018

बीटीसी चतुर्थ सेमेस्टर परीक्षा रद्द होने पर अभ्यर्थियों ने किया प्रदर्शन, शिक्षा निदेशालय पर जड़ा ताला

लखनऊ। प्रदेशभर में बीटीसी चौथे सेमेस्टर की परीक्षा रद किए जाने से नाराज अभ्यर्थियों ने मंगलवार को निशातगंज स्थित राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) निदेशालय का घेराव कर प्रदर्शन किया। सुबह 9:45 बजे से डटे अभ्यर्थियों ने शाम तक मांगों पर कार्रवाई न होने पर निदेशालय के मेन गेट पर ताला जड़ दिया। इससे अभ्यर्थियों के साथ अधिकारी व कर्मचारी भी अंदर रह गए। रात साढ़े आठ बजे तक चली बैठक के बाद अधिकारियों के आश्वासन पर अभ्यर्थी निदेशालय से चले गए। अभ्यर्थिंयों की मांग है कि बीटीसी चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं 15 से 17 अक्टूबर में करवाई जाएं और टीईटी परीक्षा की तिथि एक महीने आगे बढ़ाई जाए।
बीटीसी-2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षाएं 8 से 10 अक्टूबर तक होनी थी, लेकिन सोमवार को कौशांबी में इस परीक्षा का पेपर लीक होने की बात सामने आई। इसके बाद परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने देर रात सभी परीक्षाएं रद कर दी थीं।
अभ्यर्थी बोले, नहीं दे पाएंगे शिक्षक पात्रता परीक्षा
प्रदर्शन कर रहे मोनू वर्मा, दीपिका मौर्य, अनामिका, रावेंद्र, शिवम सहित कई अभ्यर्थियों का कहना था कि अगले महीने टीईटी परीक्षा है। सभी ने आवेदन किया है। नियमानुसार बीटीसी चौथे सेमेस्टर के नतीजे टीईटी रिजल्ट से पहले आने चाहिए। यदि समय से सेमेस्टर परीक्षा नहीं हुई तो परिणाम कैसे समय पर आएगा। ऐसे में अगली शिक्षक पात्रता परीक्षा और शिक्षक भर्ती में हम शामिल नहीं हो पाएंगे।
मांग पत्र पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है। मामले से शासन को भी अवगत करवा दिया गया है। जल्द ही कोई निर्णय होने को उम्मीद है। -संजय सिन्हा, निदेशक एससीईआरटी
निदेशक ने तीन दिन में सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी करने का आश्वासन दिया है। मांगें पूरी न होने पर हम फिर से यहां आएंगे। -सर्वेश कुमार सिंह, प्रदेश अध्यक्ष, बीटीसी मोर्चा 2015 बैच
बीटीसी अभ्यर्थियों ने चौथे सेमेस्टर की परीक्षा रद होने पर किया प्रदर्शन

 इलाहाबाद : बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा को लेकर प्रशिक्षुओं ने आंदोलन तेज कर दिया है। धरने के दूसरे दिन परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर खूब नारेबाजी की। एसीएम यानि अपर नगर मजिस्ट्रेट के आने पर भी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी से सीधे मुलाकात नहीं हो सकी। जबकि परीक्षा की तारीख पर सचिव ने फोन से एसीएम की हुई बात पर भी अभी स्पष्ट जवाब नहीं दिया। उन्होंने गुरुवार को आंदोलनरत अभ्यर्थियों से मिलने का आश्वासन जरूर दिया। 

कौशांबी जिले में पेपर लीक होने के चलते परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने बैच के चौथे सेमेस्टर के सभी आठ पेपर निरस्त कर दिए हैं। परीक्षा की नई तारीख अब तक घोषित नहीं है। जिससे अभ्यर्थी आगामी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नहीं हो सकेंगे। अभ्यर्थी परीक्षा निरस्त होने के बाद से परीक्षा संस्था के कार्यालय पर धरना दे रहे हैं। 

बुधवार को अपर नगर मजिस्ट्रेट परीक्षा संस्था पर पहुंचे। उन्होंने अभ्यर्थियों की समस्या को सुना। सचिव के न रहने पर फोन से उनसे बात की। लेकिन, परीक्षा की तारीख को लेकर असमंजस बना रहा। बीटीसी संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सर्वेश प्रताप सिंह, अभिषेक सिंह, शशांक पांडेय ‘सत्यम’, अभिषेक सिंह, निखिल यादव आदि ने कहा है कि परीक्षा की तारीख जारी होने पर ही धरना समाप्त होगा।

क्रमिक अनशन की चेतावन
चौथे सेमेस्टर की परीक्षा के मुद्दे पर आल बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर धरना प्रदर्शन किया और डीएम को ज्ञापन सौंपा। प्रदेश महासचिव प्रफुल्ल सिंह के नेतृत्व में अमरमणि त्रिपाठी, मीरजापुर के मंडल अध्यक्ष विकास दुबे, रूपेंद्र उपाध्याय, अलीशेख आदि ने कहा कि मांग पूरी न हुई तो क्रमिक अनशन करेंगे।

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो