Oct 26, 2018

UPTET 2018: प्रदेश के दो हजार केंद्रों पर होगी शिक्षक पात्रता परीक्षा, जिलों के केंद्रों की सूची एनआइसी भेजने की प्रक्रिया शुरू


प्रयागराज : उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी टीईटी 2018 के लिए केंद्रों का चयन लगभग पूरा हो गया है। प्रदेश के दो हजार से अधिक केंद्रों पर यह परीक्षा 18 नवंबर को दो पालियों में कराई जाएगी। प्रयागराज जिले में सबसे अधिक अभ्यर्थी होने के बाद भी सूची तय न होने से परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय परीक्षा केंद्रों की सूची फाइनल नहीं कर पा रहा है। हालांकि अन्य जिलों के केंद्रों की सूची एनआइसी को भेजी जा रही है, ताकि समय पर प्रवेश पत्र जारी हो सके। 1यूपी टीईटी के लिए परीक्षा केंद्र तय करने की प्रक्रिया पिछले एक सप्ताह से चल रही थी, तय समय से तीन दिन विलंब के बाद कुल केंद्रों की अनुमानित संख्या ही जारी हो सकी है। इस परीक्षा के लिए 18 लाख से अधिक अभ्यर्थियों ने आवेदन किए हैं। उनकी सूची सभी जिलों को 17 अक्टूबर को भेजकर 22 अक्टूबर तक केंद्रों की सूची मांगी गई थी लेकिन, कई जिलों की हीलाहवाली से अब केंद्र तय हो सके हैं। सबसे अधिक परीक्षार्थी प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर शहर, आगरा, मेरठ व वाराणसी आदि जिलों में हैं। ऐसे में इन्हीं जिलों में केंद्रों की संख्या भी अधिक है। इसके बाद भी अन्य जिलों ने कुछ देर से ही सही केंद्र तय कर दिए हैं, अब केवल प्रयागराज में बनने वाले केंद्र अभी तक तय नहीं हो सके हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने बताया कि अन्य जिलों में केंद्र फाइनल होने से परीक्षा करीब दो हजार से अधिक केंद्रों पर होगी। प्रयागराज में भी लगभग एक सौ केंद्र होने का अनुमान है। इसकी वास्तविक संख्या कल तक घोषित होने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि केंद्र फाइनल होते ही अभ्यर्थियों के केंद्रवार आवंटन की सूची एनआइसी को भेजने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। यह कार्य शुक्रवार तक पूरा कर लिया जाएगा। ज्ञात हो कि टीईटी परीक्षा के प्रवेशपत्र 30 अक्टूबर तक अपलोड करने की तैयारी की जा रही है।

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो