02 May 2019

69000 शिक्षक भर्ती केस अपडेट लखनऊ खण्डपीठ: पढें आज की सुनवाई के विस्तृत सार रिजवान टीम की कलम से


*केस अपडेट: 40-45*
⚖लखनऊ खण्डपीठ⚖

केस पास ओवर होने के बाद दुबारा केस टेक अप हुआ। टीम की तरफ से *फायर ब्रांड उपेंद्र मिश्रा,मोस्ट सीनियर एच एन सिंह, विधि चाणक्य श्री अमित भदौरिया जी* कोर्ट रूम में रहे।

फायर ब्रांड एडवोकेट श्री उपेंद्र मिश्रा जी के आगे सबकी बोलती बंद रही। उनका सीधा सा तर्क था कि बीएड का तो अपील दायर करने का कोई अधिकार ही नहीं। हमारा इस पर ऑब्जेक्शन है। कोर्ट ने उपेंद्र मिश्रा जी की इस बात पर सहमति जताते हुए टीम की तरफ से ऑब्जेक्शन फ़ाइल करने को बोला।


मोस्ट सीनियर एडवोकेट श्री एच एन सिंह ने कोर्ट को बताया कि बीएड के वकीलों की तरफ से उनको कोई कॉपी ही नही दी गई तो वो बहस किस बेस पर करें? इस पर कोर्ट ने विपक्षी वकीलों को याचिका की कॉपी सर्व करने का निर्देश दिया।

*विपक्षी वकीलों की तरफ से मोस्ट सीनियर जयदीप माथुर,मोस्ट सीनियर एस के कालिया,मोस्ट सीनियर प्रशांत चंद्रा जी, सीनियर एडवोकेट अनिल तिवारी आज अपीयर हुए। विपक्षी की तरफ से सभी ने 29 मार्च के फैसले पर कोर्ट से बार बार स्टे की मांग की गई। लेकिन टीम के अधिवक्ताओं की बहस के आगे विरोधी स्टे लेने में कामयाब न हो पाए।*

टीम को कहीं न कहीं इस बात का डर था कि कैसे भी स्टे न होने पाए। हम आज इसमे भी कामयाब हो गए। टीम ने सफलता की पहली सीढ़ी पार कर ली। विरोधियों को कोई भी स्टे नही मिला।

*आज की इस प्रथम जीत का श्रेय फायर ब्रांड एडवोकेट श्री उपेंद्र नाथ मिश्रा,और एच एन सिंह को जाता है।*
चूंकि टीम रिज़वान ही मुख्य विपक्षी पार्टी है । सभी पार्टियों ने टीम रिज़वान की ही लीडिंग पिटीशन को पार्टी बनाया है *इस आधार पर टीम अगली सुनवाई से पहले के ऐसा मजबूत ऑब्जेक्शन फ़ाइल करवाएगी जिससे विरोधियों की ये याचिकाएं स्वतः ही खारिज हो  जाएंगी।* ये कारनामा टीम पहले भी सिंगल बेंच में कर चुकी है।
*कोर्ट ने इस केस की अगली सुनवाई- 14 मई को मुकर्रर की है।*


®टीम रिज़वान अंसारी।।
(टेट सेवा समिति-उ0प्र0)

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो