12 July 2019

उत्तर प्रदेश के 1.24 लाख स्नातक प्रशिक्षित शिक्षा मित्रों के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट से एक आस जगी

उत्तर प्रदेश के 1.24 लाख स्नातक प्रशिक्षित शिक्षा मित्रों के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट से एक आस जगी है। जिसके लिये सर्वसम्मति से सभी को मिलकर आगामी 26 अगस्त को होने बाली सुनबाई मे कम से कम दो बरिष्ठ अधिवक्ताओं को हायर करके, आर्गुमेन्ट कराना सफलता प्रदान कर सकता है। साथ ही सुनवाई के पहले शासन स्तर पर बिभागीय बरिष्ट अधिकारियों को बिश्वास मे लेकर पक्ष मे शपथपत्र दाखिल कराने का भी प्रयास होना चाहिए। लेकिन दुर्भाग्य मात्र 14 दिन सुनबाई के लिये रह गये, अभी तक एक दूसरे की टांग खीचाई के अलावा कुछ भी नही दिखाई पड़ रहा, जबकि मुख्य पैरोकार भोला प्रसाद शुक्ला को बडा़ दिल दिखाते हुए प्रदेश के सभी संगठनों व जागरूक शिक्षामित्र प्रतिनिधियों से बात करके इस दिशा मे मिलकर वकीलों की व्यवस्था करने का प्रयास करना चाहिए। लेकिन देख रहे है। श्री शुक्ला जी के कुछ सहयोगी अहम व बहम मे चूर होकर, सोसल मीडिया पर आरोप प्रत्यारोप मे व्यस्त है। क्या इस तरह से सफलता मिल सकती है, यह एक बिचारणीय प्रश्न है। कल से सुप्रीम कोर्ट के एक अधिवक्ता से बातचीत का आडियों वायरल हो रहा है। यह सब अच्छी बात नही, इसलिए उक्त टीम के मुखिया शुक्ला जी को दरियादिल दिखाकर शेष बचे 14 दिन मे सभी जनपदों के जागरूक शिक्षामित्र प्रतिनिधियों से वार्ता करके, कम से कम दो बरिष्ठ अधिवक्ताओं के लिए शुल्क की व्यवस्था करना चाहिए। बाकी 100/200 रुपये से बरिष्ट अधिवक्ताओं को हायर करना कठिन होगा। इसके साथ ही इस मामले मे बडे़ भाई दीनानाथ दीक्षित जी से भी सलाह लेनी आवश्यक है। क्योकि सुनबाई के समय कोर्ट मे कोई भी अधिवक्ता तभी अच्छी तरह से आर्गुमेन्ट कर सकता है जब उसको अच्छी तरह से उस बिषय के जानकार से ब्रीफ किया गया हो, धन्यवाद।।
ह्रदयेश दुवे🙏🏻
8604104556

प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु महत्वपूर्ण नोट्स और वीडियो