08 September 2020

दुखद : सड़क दुर्घटना में बेसिक स्कूल की शिक्षिका की मौत, बाइक से स्कूल आ रही थी शिक्षिका, नियुक्ति की वर्षगांठ पर मौत की मुहर


गोंडा:- सोमवार को वजीरगंज कस्बे में घुसते ही एक टैंकर ने बाइक को टक्कर मार दी। इस हादसे में एक शिक्षिका की मौके पर ही मौत हो गई जबकि बाइक चला रहा शिक्षिका का जीजा गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल जीजा को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अयोध्या जिले के बीकापुर कोतवाली अन्तर्गत ग्राम चौधरी नगर चांदपुर निवासी शिक्षिका शिल्पा वर्मा अपने बहनोई दुर्गा प्रसाद वर्मा निवासी मिझौली किशुनदासपुर थाना तारूल अयोध्या के साथ सोमवार को वजीरगंज आरही थी। वजीरगंज कस्बे में मस्जिद के सामने पहुंची ही थी कि उसकी बाइक को टैंकर ने ठोकर मार दी। इस घटना में शिक्षिका शिल्पा वर्मा की मौके पर ही मौत हो गई जबकि बहनोई दुर्गा प्रसाद गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतक शिक्षक शिक्षा क्षेत्र वजीरगंज के प्राथमिक विद्यालय नगवा तृतीय में सहायक अध्यापक पद पर तैनात थी।


दो वर्ष पहले हुई थी नियुक्ति :
शिक्षिका शिल्पा वर्मा आठ सितंबर 2018 को सहायक अध्यापक बनी थी। दो वर्ष पहले सहायक अध्यापक बनीं शिल्पा की हादसे में निधन हो गया। पिता शिव प्रसाद वर्मा की तहरीर पर टैंकर चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। जिस दिनांक को शिल्पा सहायक अध्यापिका बनी उसी तारीख से एक दिन पहले हादसे में उनकी जान भी चली गई।

जिस तारीख को शिल्पा वर्मा सहायक अध्यापक बनी, उसी तारीख यानी 8 सितंबर को हादसे में उसकी जान भी चली गई। शिक्षिका शिल्पा वर्मा की आठ सितंबर 2018 को सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति हुई थी। वह अपने बहनोई के साथ गोण्डा जिला मुख्यालय पर रहकर विद्यालय आती-जाती थी। उनके बहनोई दुर्गा प्रसाद वर्मा  निवासी मिझौली किसुनदासपुर रूपापुर थाना तारुन अयोध्या गोण्डा महिंद्रा कोचिंग में पढ़ाते थे।

बताया जाता है कि वह अपने बहनोई के साथ गोंडा मुख्यालय पर रहकर विद्यालय आती थी। इनके बहनोई दुर्गाप्रसाद वर्मा निवासी मिझौली किशुनदासपुर रूपापुर थाना तारुन अयोध्या गोंडा महिंद्रा कोचिंग में पढ़ाते थे। शनिवार को दोनों घर गए थे। सोमवार को वापस विद्यालय आते समय टैंकर की चपेट में आकर दर्दनाक मौत हो गई।

शिक्षिका की मौत पर पनपा आक्रोश रोड एक्सीडेंट में शिक्षिका की मौत पर शिक्षा जगत व शिक्षक संगठनों में भारी आक्रोश पनप गया है। शिक्षक संघ के नेताओं ने इसे रोड एक्सीडेंट के बजाय हत्या की संज्ञा दी है। इसके लिए उन्होंने ब्लॉक 4 के उस नियम का हवाला दिया है जिसमें शिक्षकों को अभी स्कूल बुलाए जाने पर रोक लगाकर रखा गया है।


शिक्षक ग्रुपों पर दिखा उबाल। शिक्षकों के विभिन्न व्हाट्सएप ग्रुपों पर उबाल दिखाई पड़ा। लोगों ने ग्रुप पर खूब लिखा कि रोड एक्सीडेंट की वजह शिक्षकों को कोरोना कॉल में जबरन स्कूल तो बुलाया जाना है। शिक्षकों को समय से पहले स्कूल पहुंचने की जल्दीबाजी उनकी जानपर भारी पड़ रही है। शिक्षिका की मौत पर बड़ा हंगामा सोशल प्लेटफार्म पर मचा हुआ है। लोग जून महीने से ही शिक्षकों को जबरन स्कूल बुलाए जाने का विरोध जताते आ रहे थे। अब कि जब एक हृदय विदारक घटना भी सामने आई है तो आक्रोश और बढ़ गया। जिसके कारण लोगों ने अपने गुस्से का इजहार किया। लगातार लोग सवाल उठा रहे हैं।


Guruji Portal: 👇प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु नोट्स👇