06 October 2020

अब Raebareli में भी बेसिक स्कूलों में किचन गार्डेन की व्यवस्था पर उठने लगे सवाल, शिक्षकों को निर्धारित मेनू के हिसाब से सब्जियों को उगाने का सौंपा गया दायित्व


रायबरेली: बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय विद्यालयों में किचन गार्डन तैयार करने का फरमान जारी हुआ, तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी सवाल भी उठ रहे हैं। हालांकि कई स्कूलों के फरमान जारी होते ही क्यारियां बनाकर पौधे लगाने भी शुरू कर दिए हैं। चिन्हित किए गए विद्यालयों में 17 संविलियन , 288 प्राथमिक एवं पंचानवे उच्च प्राथमिक शामिल है।

बीएसए ने 1 अक्टूबर को परिषदीय विद्यालयों में किचन गार्डन बनाने का फरमान जारी किया जिसमें प्रधानाध्यापक को, सहायक अध्यापकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों को अलग-अलग सब्जियां उगाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 1 महीने के भीतर पौधे तैयार करने को कहा गया है, क्योंकि बेहतर किचन गार्डन बनाने वालों का आकलन कर उन्हें ब्लॉक एवं जिला स्तर पर सम्मानित करने की बात भी कही गई है। किचन गार्डन के अनुसार 400 विद्यालय चुने गए हैं। जिसके बारे में कहा जा रहा है कि कई विद्यालयों में पर्याप्त जगह नहीं है। इस बाबत जिला समन्वयक एसडीएम विनय कुमार तिवारी बताते हैं कि पर्याप्त जगह और चारदीवारी वाले स्कूलों की सूची भी योग के माध्यम से मांगी गई थी।

आदेश अव्यावहारिक, निरस्त करने की मांग

किचन गार्डेन बनाना सरकार की योजना है, जिस पर अमल किया जाना है। इसके लिए 400 स्कूल चिन्हित किए गए हैं। जिन विद्यालयों में पर्याप्त जगह और चार दिवारी हैं वहां किचन गार्डन तैयार करने को कहा गया है। यह काम सबको मिलकर पूरा करना है। अगर कोई दिक्कत आ रही है तो उसका समाधान किया जाएगा।

आनंद प्रकाश शर्मा बीएससी
बेसिक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन में किचन गार्डन बनाने के संबंध में जारी किए गए आदेश को अव्यवहारिक बताया है, प्रदेश संयोजक/जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार शर्मा और जिला महामंत्री फूलचंद यादव ने रविवार को यह बताते निरस्त करने की मांग को लेकर डीएम को ईमेल से पत्र भेजा है।कहां है कि परिषदीय विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों सहायक अध्यापक शिक्षा मित्रों अनुदेशक को किचन गार्डन में क्यारी बनाकर सब्जियों गाने का आदेश दिया गया है जो अव्यवहारिक है। किचन गार्डन की सूची में ज्यादातर ऐसे स्कूल जहां पर्याप्त जगह नहीं है जो भी थोड़ी बहुत जगह है वहां बच्चों की प्रार्थना सभा खेलकूद समेत अन्य गतिविधियां होती हैं। यह आदेश मिशन प्रेरक के बाधक सिद्ध होगा। और ऐसे आदेश में शिक्षक ,शिक्षामित्र ,अनुदेशक अपने मूल उद्देश्य से भटकेंगे।

Guruji Portal: Hindi Notes| Free Exam Notes |GS Notes| Quiz| Books and lots more