यूपी बोर्ड की 10वीं-12वीं में लागू होंगी अंग्रेजी की एनसीईआरटी आधारित किताबें

यूपी बोर्ड 2021-22 सत्र से तीन और कक्षाओं में राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) पर आधारित पाठ्यक्रम लागू करेगा। कक्षा 10 व 12 में अंग्रेजी और कक्षा 12 में कॉमर्स में राष्ट्रीय मानक के अनुरूप कोर्स लागू करने की तैयारियां शुरू हो गई हैं।
सूत्रों के अनुसार प्रकाशन का टेंडर जनवरी में जारी होगा ताकि मार्च के तीसरे सप्ताह तक नई किताबें बाजार में उपलब्ध हो जाएं। इसी के साथ हिन्दी और संस्कृत को छोड़कर यूपी बोर्ड के स्कूलों में अन्य सभी विषयों में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की तरह एनसीईआरटी का कोर्स लागू हो जाएगा।


बोर्ड ने 2020-21 सत्र में कक्षा 9 व 11 की अंग्रेजी और कक्षा 11 कॉमर्स में एनसीईआरटी का कोर्स लागू किया था। इस बदलाव से कक्षा 9 अंग्रेजी साहित्य का कोर्स दोगुने से अधिक जबकि 11वीं का पाठ्यक्रम आधे से भी कम हो गया।

कॉमर्स में सामान्य हिन्दी, व्यवसाय अध्ययन और लेखाशास्त्र बच्चों को अनिवार्य रूप से पढ़ना है जबकि अर्थशास्त्र, अंग्रेजी, गणित और कम्प्यूटर में से कोई दो विषय ले सकते हैं।

बोर्ड ने 2018-19 सत्र में 18 विषयों की 31 किताबें जबकि 2019-20 सत्र से छह विषयों हाईस्कूल सामाजिक विज्ञान और इंटर इतिहास, भूगोल, नागरिकशास्त्र, अर्थशास्त्र और समाजशास्त्र में एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम की लागू किया था।

 

बहुत सस्ती हो गई है यूपी बोर्ड की किताबें

एनसीईआरटी की किताबें लागू होने के बाद यूपी बोर्ड के बच्चों को 80 फीसदी तक सस्ती किताबें मिल रही हैं। कक्षा 11 अंग्रेजी की किताब स्नैपशॉट बाजार में सिर्फ 7 रुपये में है जबकि एनसीईआरटी की यही किताब बाजार में 35 रुपये में उपलब्ध है।