सिसोदिया ने स्वीकारी चुनौती 22 को जाएंगे लखनऊ, यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री ने शिक्षा पर बहस की दी चुनौती, स्थान और समय बताने का अनुरोध, कहा-मुकर मत जाना

सिसोदिया ने स्वीकारी चुनौती 22 को जाएंगे लखनऊ 


 नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) के उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ ही दिल्ली की आप व उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार के बीच तकरार बढ़ गई है। उत्तर प्रदेश सरकार के कई मंत्रियों ने दिल्ली सरकार को बहस की चुनौती दी थी। इस पर बुधवार को दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि हम बहस को स्वीकार करते हैं और 22 दिसंबर को लखनऊ पहुंचेंगे। उप्र सरकार बहस के लिए स्थान और समय बता दे। एक बार चुनौती दी है तो मुकर मत जाना। बहस जनता के सामने होगी। सिसोदिया ने डिजिटल प्रेसवार्ता कर कहा कि सीएम केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश में अगला विस चुनाव लड़ने की घोषणा की है, जिसके बाद से उत्तर प्रदेश सरकार में बेचैनी होने लगी है। उन्होंने कहा कि अपनी सरकार का गुणगान करने से स्कूल नहीं सुधरते, बल्कि इसके लिए शिक्षा का बजट बढ़ाना पड़ता है। ’>>स्थान और समय बताने का अनुरोध, कहा-मुकर मत जाना ’>>उत्तर प्रदेश के कई मंत्रियों ने शिक्षा पर बहस की चुनौती दी है केजरीवाल का पलटवार मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के बयान पर बुधवार को कहा कि योगी को सोते-जागते, उठते-बैठते दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी ही दिखाई देती है। योगी जी, हमारे कोरोना पर शानदार काम की चर्चा उत्तर प्रदेश के गली-मोहल्लों में हो रही है। आपकी तरह हम फर्जी कोरोना टेस्ट नहीं करते। बाकी मनीष जी 22 दिसंबर को आपके मंत्री के आमंत्रण पर बहस करने लखनऊ जा रहे हैं। दरअसल, प्रयागराज में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में दिल्ली से बेहतर काम हुआ है।