अब से साल में चार बार जेईई मेन, जानिए इसके आलावा केन्द्रीय शिक्षा मंत्री ने कौन-कौन सी की घोषणाएं

नई दिल्ली : कोरोना संकटकाल में घरों में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्रों को सरकार ने बड़ी राहत दी है। इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिए अब संयुक्त प्रवेश परीक्षा-मुख्य यानी जेईई-मेन का आयोजन साल में चार बार किया जाएगा। इससे छात्रों को अपना स्कोर सुधारने का मौका मिलेगा, क्योंकि जिस परीक्षा में ज्यादा अंक होंगे, उसे ही स्वीकारा जाएगा। इसकी शुरुआत अगले साल से यानी वर्ष 2021 से हो रही है। पहली परीक्षा 23 से 26 फरवरी के बीच होगी, जबकि अगली परीक्षाएं मार्च, अप्रैल और मई में कराई जाएंगी। चारों बार परीक्षा खत्म होने के पांच दिन के भीतर परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। मेरिट तैयार करते समय परीक्षार्थी के सर्वश्रेष्ठ प्राप्तांक को शामिल किया जाएगा।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बुधवार को बताया कि छात्रों के साथ ही विभिन्न संबंधित पक्षों से तमाम सुझाव मिले थे, जिस पर गौर करने के बाद यह तय किया गया है कि जेईई-मेन का आयोजन चार सत्रों-फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई में किया जाएगा। इस परीक्षा के आधार पर ही अभ्यर्थियों का चयन जेईई एडवांस के लिए होता है, जो आइआइटी में प्रवेश का आधार है। उत्तर प्रदेश ने भी जेईई मेन के आधार पर अपने इंजीनियरिंग कालेजों में दाखिला देने की सहमति दे दी है। अभी तक वह अपने इंजीनियरिंग कालेजों में प्रवेश के लिए राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा आयोजित कराता था। केंद्रीय मंत्री निशंक ने बताया कि अभ्यर्थियों को एक और बड़ी राहत दी गई है। परीक्षार्थियों के सामने 90 में से 75 सवालों (भौतिकी, रसायन और गणित में 25-25 सवाल) के जवाब देने का विकल्प होगा।




’>>2021 में 23-26 फरवरी के बीच होगी पहली संयुक्त प्रवेश परीक्षा

’>>अभी तक एक साल में सिर्फ दो बार होता था जेईई मेन का आयोजन

खास बातें

’फरवरी के अलावा मार्च, अप्रैल और मई में भी होगी परीक्षा

’परीक्षा में अपने प्राप्तांक में सुधार करने के कई अवसर मिलेंगे

’अभ्यर्थी एक में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं तो साल बर्बाद नहीं होगा

’अभ्यर्थियों के लिए चारों परीक्षाओं में बैठने की अनिवार्यता नहीं है

’चारों बार परीक्षा के बाद पांच दिन के भीतर घोषित कर दिए जाएंगे नतीजे

’उत्तर प्रदेश के इंजीनियरिंग कालेजों में भी अब जेईई मेन से दाखिला

पहली बार 13 भाषाओं में होगी मुख्य परीक्षा

कोरोना संकट के बीच नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने अभ्यर्थियों को राहत देते हुए जेईई मेन अंग्रेजी सहित 13 भाषाओं में कराने की अनुमति दी है। इनमें हिंदी, गुजराती, असमी, उर्दू, बंगाली, कन्नड़, मराठी, मलयालम, उड़िया, पंजाबी, तमिल और तेलुगु शामिल है। अभी तक परीक्षा अंग्रेजी, हिंदी और गुजराती में होती थी।

16 जनवरी तक कर सकेंगे आवेदन

अगले साल फरवरी में आयोजित होने वाले जेईई मेन के लिए आनलाइन आवेदन करने का काम शुरू हो गया है। 16 जनवरी तक इसके लिए आवेदन कर सकेंगे। फरवरी के दूसरे हफ्ते में प्रवेश पत्र डाउनलोड किए जा सकेंगे। परीक्षा 23 से 26 फरवरी के बीच होगी। मार्च में यह परीक्षा 15 से 18, अप्रैल में 27 से 30 और मई में 24 से 28 तारीख के बीच होगी।