माध्यमिक शिक्षा के सहायता प्राप्त विद्यालयों में तीन हजार लिपिकों की होगी भर्ती

 लखनऊ : अशासकीय सहायता प्राप्त (एडेड) माध्यमिक स्कूलों में जल्द लिपिक के खाली तीन हजार पदों पर भर्ती की जाएगी। बुधवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तरीय बैठक में उप्र अधीनस्थ सेवा चयन आयोग या नवगठित शिक्षा सेवा आयोग से भर्ती कराने पर मंथन किया गया। फिलहाल अधिकारियों को जल्द भर्ती प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक लिपिक के पदों पर प्रबंधतंत्र और डीआइओएस के माध्यम से भर्ती की जाती थी।

लखनऊ। माध्यमिक शिक्षा विभाग के सहायता प्राप्त स्कूलों में अधीनस्थ सेवा चयन आयोग या शिक्षा सेवा चयन आयोग के जरिए जल्द ही तीन हजार लिपिकों की भर्ती की जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधबार शाम भर्ती को लेकर विभाग की ओर से इस संबंध में की गई तैयारियों की समीक्षा की। माध्यमिक शिक्षा विभाग के 4502 सहायता प्राप्त स्कूलों के लिपिकों के तीन हजार से अधिक पद खाली हैं। अभी तक विभाग की सहमति से विद्यालय प्रबंधन समिति द्वाता की जाने वाली इन भर्तियों में अनियमितता की शिकायतें मिलती रही हैं। इन शिकायतों पर विराम लगाने के लिए विभाग ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग या आगामी समय में गठित होने वाले शिक्षा सेवा चयन आयोग के जरिए यह भर्तियां करने की योजना बनाई है। सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में अगले साल लिपिकों को भर्ती करने पर विचार किया गया। बैठक में उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा और विभाग के अधिकारी मौजूद रहे। उल्लेखनीय है कि बेसिक शिक्षा परिषद के सहायता प्राप्त स्कूलों में भी 3000 से अधिक लिपिकों की भर्ती का प्रस्ताव शासन में विचाराधीन है।