अध्यापकों को मारने आए छात्र ने सहपाठी को गोली से उड़ाया, कुर्सी पर बैठने को लेकर छात्र से हुआ विवाद

 बुलंदशहर: शिकारपुर स्थित सूरजभान सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज में गुरुवार सुबह 10वीं के एक नाबालिग छात्र ने क्लास रूम में ही सहपाठी की गोली मारकर हत्या कर दी। दिल दहला देने वाली यह वारदात दोनों के बीच महज सीट पर बैठने को लेकर हुए विवाद के कारण हुई। फायरिंग और उसके बाद खून से लथपथ छात्र को देख कक्षा में अफरातफरी मच गई। छात्रों की चीख-पुकार सुन शिक्षक भी क्लासरूम की ओर दौड़े।


इस दौरान प्रधानाचार्य ने मुख्यद्वार बंद करवा दिया और भाग रहे हत्यारोपित छात्र को दबोच लिया गया। आरोपित छात्र के पास से उसके चाचा की लाइसेंसी पिस्टल बरामद हुई है। एक दिन पूर्व दो शिक्षकों द्वारा पीटे जाने के बाद आरोपित छात्र दोनों शिक्षकों को मारने की नीयत से विद्यालय पहुंचा था।

गांव आंचरूकलां निवासी अनुसूचित जाति के रवि कुमार कारपेंटर हैं। उनका 14 वर्षीय इकलौता पुत्र टार्जन सूरजभान सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज में कक्षा 10 का छात्र था। बताया जाता है कि दूसरा पीरियड शुरू होने से पहले नौरंगाबाद क्षेत्र निवासी एक छात्र ने टार्जन को सीट से हटने के लिए कहा। इसी बात पर दोनों के बीच नोकझोंक हुई, लेकिन टार्जन सीट से नहीं उठा। इस पर आरोपित ने अपने बैग से पिस्टल निकाली और टार्जन को लक्ष्य कर दो फायर कर दिए। एक गोली टार्जन के सिर जबकि दूसरी गोली उसके सीने में लगी। टार्जन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। प्रधानाचार्य ने तुरंत स्कूल का मुख्यद्वार बंद करवा दिया और आरोपित को पकड़कर पुलिस को सूचना दी। स्कूल पहुंची पुलिस ने हत्यारोपित छात्र को अपने कब्जे में लिया। पिस्टल उसके रिटायर्ड फौजी चाचा की है।

मृतक छात्र टाजर्न (फाइल फोटो) ’ स्वजन

’>>कुर्सी पर बैठने को लेकर छात्र टार्जन से हुआ विवाद

’>>दो गोली लगने से छात्र ने मौके पर ही दम तोड़ा

दोनों ही छात्रों की उम्र 14 -14 साल है। टार्जन के पिता रवि की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। एक तहरीर प्रधानाचार्य की ओर से भी मिली है। आरोपित छात्र से पूछताछ की जा रही है।

संतोष कुमार सिंह, एसएसपी बुलंदशहर

बैग से एक तमंचा भी मिला

हत्यारोपित छात्र के बैग की तलाशी हुई तो उससे एक तमंचा और कारतूस भी बरामद हुआ। उसने बताया कि यह तमंचा उसने अपने दोस्त से मांगा था, वह भी उसी क्लास में पढ़ता है। हत्यारोपित ने बताया कि घटना के एक दिन पूर्व बुधवार को कक्षा में सीटी बजाने पर दो शिक्षकों ने उसकी पिटाई की थी। इसका बदला लेने के लिए दोनों शिक्षकों की हत्या करने की योजना बनाई। उसने बुधवार रात ही अपने चाचा की लाइसेंसी पिस्टल चुपके से बैग में रख ली। पुलिस के अनुसार वह हत्या की योजना के साथ ही स्कूल आया था, लेकिन टार्जन ने आगे वाली सीट पर बैठकर उसका खेल बिगाड़ दिया था। आरोपित का इरादा कक्ष द्वार के पास वाली आगे की सीट पर बैठने का था, ताकि वारदात को अंजाम देकर आसानी से निकल सके।