कुशीनगर:- वर्षों बाद घर लौटने की शिक्षकों की मुराद पूरी, जिनका नहीं हुआ उनके चेहरे पर छलका दर्द


कुशीनगर के बेसिक स्कूलों में तैनात शिक्षक व शिक्षिकाओं को वर्षों बाद घर लौटने की मुराद पूरी हुई है जिले के 23 सौ शिक्षकों ने अंतरजनपदीय स्थानांतरण में ऑनलाइन आवेदन किया था। तबादले का लिस्ट एक दिन पूर्व जारी होने पर अधिकांश शिक्षक झूम उठे हैं। वहीं जिन शिक्षकों का स्थानांरण नहीं हुआ है उनके चेहरे पर मायूसी झलक रही है।

बेसिक शिक्षा परिषद से जिले में 3003 परिषदीय विद्यालय संचालित होते हैं। प्राथमिक विद्यालयों में 2.27 लाख व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 56 हजार बच्चों को मिलाकर कुल 2.82 लाख बच्चे नामांकित हैं। प्राथमिक व जूनियर स्कूलों में 6462 शिक्षक, 2655 शिक्षामित्र व 244 अनुदेशक तैनात हैं। पिछले साल दिसंबर महीने में जिले के कुल 2276 शिक्षकों ने अपने गृह जनपद जाने के लिए अंतरजपदीय स्थानांतरण प्रक्रिया में हिस्सा लेकर आवेदन किया है। इसमें सर्वाधिक दुदही ब्लाक में 235, रामकोला में 218 व खड्डा में 201 शिक्षकों ने आवेदन किया है। तमकुही में सबसे कम महज 67 शिक्षकों ने आवेदन किया है। इन शिक्षकों का पिछले 4 से 6 मार्च तक काउंसलिंग कराने के बाद प्रमाणपत्रों का सत्यापन किया गया, लेकिन सरकार ने कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्थानांतरण प्रक्रिया पर रोक लगा दी।

पिछले माह सचिव ने 15 अक्तूबर तक हर हाल में स्थानांतरण प्रक्रिया पूरी करने का निर्देश दिया। पूरी प्रक्रिया जोरशोर से चल रही थी कि यकायक हाईकोर्ट ने इसपर तीन नवंबर तक रोक लगा दी है। दिसंबर महीने में हाईकोर्ट के निर्देश पर कुछ शिक्षकों ने दोबारा आवेदन किया। इसके बाद बीएसए ने आवेदकों में से मानक पूर्ण करने वाले 1890 शिक्षकों का डाटा ऑनलाइन लॉक किया था।

अंतरजनपदीय स्थानांतरण की लिस्ट जारी हो गई है। कुशीनगर से कितने शिक्षकों का तबादला हुआ है तथा कितने आने वाले है। इसकी लिस्ट सोमवार तक मिलने की उम्मीद है। वैसे जाने वालों की अपेक्षा आने वालों की संख्या काफी कम होगी।
विमलेश कुमार, बीएसए