शिक्षकों को आनलाइन किए जाएंगे विद्यालय आवंटित, वरीयता के मुताबिक स्कूलों का चुनना होगा विकल्प व पारस्परिक स्थानांतरण की सूची का दोबारा हो रहा परीक्षण,आंशिक बदलाव की संभवना

वाराणसी : परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों के अंतर जिला तबादले की सूची जारी होने के बाद भी संशय की स्थिति बनी हुई है। बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय को स्थानांतरित शिक्षकों की सूची का अब भी इंतजार है। हालांकि विद्यालयों का आवंटन आनलाइन होना है। शिक्षकों को वरीयता के मुताबिक स्कूलों का विकल्प चुनना होगा। ऐसे में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय की भूमिका कोई खास नहीं होगी।


बेसिक शिक्षा परिषद ने अंतरजनपदीय स्थानांतरण के तहत सूबे में 21,695 शिक्षकों की सूची 31 दिसंबर 2020 को ही जारी कर दी थी। जनपद के करीब 300 शिक्षकों ने दूसरे जिलों में तबादले के लिए आनलाइन आवेदन किया था। पहले 31 मार्च 2019 तक प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों के पुरुष शिक्षकों से तीन साल व महिला शिक्षकों से एक साल की सेवा पूर्ण करने वाले से आवेदन मांगा गया था। बाद में अंतरजनपदीय स्थानांतरण के मानकों में फेरबदल कर दिया गया। नए मानक के अनुसार पुरुष शिक्षकों से पांच साल व महिला शिक्षकों की सेवा पूर्ण करने की बाध्यता लागू कर दी गई। इसके चलते आवेदन करने वाले करीब 150 शिक्षक पहले ही सूची से बाहर हो गए थे। वहीं विसंगतियों के चलते करीब 50 शिक्षकों का आवेदन निरस्त कर दिया गया है, जबकि सूबे के विभिन्न जिलों से 31 शिक्षकों ने वाराणसी आने के लिए आवेदन किया था। बीएसए कार्यालय का दावा है कि परिषद की ओर से अब तक स्थानांतरित होने वाले शिक्षकों की सूची नहीं मिली है। इसके बावजूद स्थानीय स्तर पर विद्यालय आवंटन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इस क्रम में विद्यालयों में रिक्त पदों की सूची तैयार की जा रही है ताकि शासन का निर्देश मिलते ही ऐसे शिक्षकों को ज्वाइन कराया जा सके।

दोबारा हो रहा परीक्षण
शिक्षकों का कहना है कि बेसिक शिक्षा विभाग पारस्परिक स्थानांतरण की सूची को अब तक अंतिम रूप नहीं दे सका है। वहीं तबादले की सूची को लेकर दोबारा परीक्षण किया जा रहा है। सूची आंशिक रूप से संशोधित होने की भी संभावना है। ऐसे में दो से तीन दिन का समय और लग सकता है।