स्कूली बच्चों को खाने के साथ नाश्ता भी, शिक्षा मंत्रालय का रोडमैप तैयार कुपोषित जिलों से हो सकती शुरुआत

नई दिल्ली: स्कूली बच्चों को दोपहर के खाने के साथ नाश्ता देने की योजना का फिलहाल पूरा रोडमैप तैयार हो गया है। हालांकि यह अभी मंजूरी की प्रक्रिया में है। ऐसे में यदि इसे मंजूरी मिलती है, तो इस पर हर साल करीब दस हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके तहत स्कूली बच्चों को स्कूल पहुंचते ही पोषक तत्वों से भरपूर कोई तैयार (रेडी-टू-ईट) नाश्ता दिया जाएगा। लेकिन इनमें ब्रांडेड कंपनियों से बनी सामग्री यानी बिस्कुट जैसी कोई चीज नहीं होगी। इसकी जगह स्वयंसेवी संस्थानों और महिला समूहों से तैयार सामग्री दी जाएगी।


नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्कूली बच्चों के लिए मिड-डे योजना के तहत खाने के साथ नाश्ता देने के सुझाव के बाद केंद्रीय शिक्षा मंत्रलय इस योजना के अमल में तेजी से जुटा हुआ है। इसके तहत मंत्रलय ने फिलहाल जो रोडमैप तैयार किया है, उनमें इस योजना को सभी राज्यों में लागू किया जाना है। जिस पर साल में करीब दस हजार करोड़ के खर्च का अनुमान लगाया गया है। इसमें केंद्र और राज्य दोनों का हिस्सा शामिल है। फिलहाल राज्यों से कई दौर की चर्चा के बाद केंद्र इस पूरी योजना को तेजी से आगे बढ़ाने में जुटा हुआ है। मंत्रलय से जुड़े सूत्रों की मानें तो यदि कोई बड़ी बाधा नहीं आयी, तो इसे मंजूरी के लिए जल्द ही कैबिनेट के सामने रखा जाएगा। वहीं आने वाले बजट में भी इसके एलान की पूरी संभावना है। बच्चों को नाश्ता मुहैया कराने की इस योजना को एक साथ पूरे देश भर में लागू करने के बजाय इसे पहले देश के उन जिलों में शुरू करने की तैयारी है, जहां कुपोषण की समस्या ज्यादा है।
primary ka master, primary ka master current news, primarykamaster, basic siksha news, basic shiksha news, upbasiceduparishad, uptet