फर्जी प्रमाणपत्र पर नौकरी कर रहा शिक्षक बर्खास्त, आरोपी पर केस दर्ज कराने का बीईओ को निर्देश


गाजीपुर। फर्जी अभिलेख के आधार पर नौकरी कर रहे एक सहायक अध्यापक को जिला बेसिक शिक्षाधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता ने सोमवार को बर्खास्त कर दिया। उन्होंने खंड शिक्षाधिकारी को उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने तथा वित्त एवं लेखाधिकारी को उससे वेतन की रिकवरी का निर्देश दिया।

मुन्ना कुमार पाल की नियुक्ति जुलाई 2010 में बलिया में हुई थी। अंतर जनपदीय स्थानांतरण के तहत वर्ष 2016 में वह यहां आए और उनकी तैनाती प्राथमिक विद्यालय बिजवल में हुई। इस दौरान एक शिकायत के बाद बेसिक शिक्षक विभाग ने मुन्ना के अभिलेखों की जांच कराई तो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी आश्रित कोटे का प्रमाणपत्र फर्जी मिला। इसके बाद विभाग की ओर से इन्हें तीन नोटिस भेजे गए । इसमें वह प्रमाणित सही साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सके। जवाब भी असंतोषजनक रहा। इसे गंभीरता से लेते हुए जिला बेसिक शिक्षाधिकारी श्रवण कुमार गुप्ता ने मुन्ना पाल को बर्खास्त करते हुए खंड शिक्षाधिकारी को उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने तथा वित्त एवं लेखाधिकारी को उससे वेतन की रिकवरी करने का निर्देश दिया।