ध्वस्त किए जाएंगे जर्जर परिषदीय स्कूलों के भवन: सभी डीएम व बीएसए को जारी किए गए निर्देश, परिषदीय स्कूलों का सेफ्टी ऑडिट भी होगा

लखनऊ । प्रदेश में परिषदीय स्कूल भवनों का सेफ्टी ऑडिट कराया जाएगा। जर्जर स्कूल भवनों को ध्वस्त कर स्कूलों को बैकल्पिक भवनों में संचालित का निर्णय किया गया है। गाजियाबाद के मुरादनगर की घटना के बाद बेसिक शिक्षा विभाग ने सुरक्षित भवनों में ही स्कूलों के संचालन की कवायद शुरू की है।


स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने सभी डीएम और बीएसए को जर्जर स्कूल भवनों को ध्वस्त करने के निर्देश दिए हैं। दरअसल, मुख्य ने प्रदेश के सभी स्कूल भवनों का निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने जर्जर स्कूल भवनों को भी ध्वस्त करने के निर्देश दिए हैं। इसी क्रम में महानिदेशक ने खंड शिक्षा अधिकारियों और स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को निर्देश दिए हैं कि जर्जर भवतनों में विद्यार्थियों को प्रवेश न दिया जाए। अगर भवन जर्जर है तो स्कूल को ग्राम पंचायत या स्थानीय स्रोतों से भवन को व्यवस्था कर स्कूलों को बहां संचालित कराएं। उन्होंने बताया कि जिन भवतनों को ध्वस्त किया जाएगा उनकी जगह नए भवन के निर्माण के लिए प्रस्ताव भी मांगे जाएंगे। उन्होंने सभी डीएम और बीएसए से सात दिन में जर्जर स्कूल भवनों पर की गई कार्यवाही की रिपोर्ट तलब की है