अबकी 'एक जनपद - एक बार' की पद्धति से होंगे पंचायत चुनाव

प्रदेश में पंचायत चुनाव एक जनपद - एक बार की पद्धति से कराए जाएंगे। इस बार पंचायत चुनाव में एक जिले के सभी ब्लॉक में एक ही चरण में चुनाव कराए जाएंगे। प्रत्येक मंडल के एक जिले में एक चरण में चुनाव कराया जाएगा। राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त आयुक्त मनोज कुमार ने सभी जिलाधिकारियों को एक जिले में एक ही चरण में चुनाव की तैयारियां करने के निर्देश दिए हैं।



प्रदेश में अभी तक पंचायत चुनाव में एक जिले में स्थित विकास खंडों में चार चरण में चुनाव कराए जाते थे। यदि किसी जिले में 12 विकास खंड हैं तो प्रत्येक चरण में तीन-तीन विकास खंड में चुनाव कराए जाते थे। आयोग ने आगामी पंचायत चुनाव में एक जनपद- एक बार व्यवस्था लागू करने का निर्णय किया है। इसमें प्रत्येक जिले के सभी विकास खंडों में एक ही चरण में चुनाव कराए जाएंगे। प्रत्येक मंडल के एक से दो जिलो को एक चरण में शामिल किया जाएगा, ताकि चार चरण में चुनाव संपन्न कराए जा सकें। 


मनोज कुमार ने सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये प्रदेश के 40 जिलाधिकारियों व मंडलायुक्तों के साथ पंचायत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने मंडलायुक्तों को किसी जिले में चुनाव के लिए कर्मचारी कम पड़ने पर मंडल के दूसरे जिले से कर्मचारियों की व्यवस्था कराने के निर्देश दिए। उन्होंने जिलाधिकारियों को पंचायत चुनाव के लिए संवेदनशील मतदान केंद्रों का चयन कर उनकी सूची आयोग में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

आयुक्त ने सभी जिलाधिकारियों को एक जिले में एक चरण में मतदान कराने की तैयारियां करने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्वाचन में उपयोग होने वाली विभिन्न सामग्री और पत्रक तैयार कराने के निर्देश भी दिए। उन्होंने स्ट्रांग रूम और मतगणना स्थलों का चयन कर वहां भी आवश्यक व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि संवेदनशील मतदान केंद्रों के चयन के लिए जिला स्तर पर समिति गठित की जाए। वीसी में बरेली, अलीगढ़, सहारनपुर, आगरा, कानपुर, प्रयागराज, चित्रकूट, मेरठ और मुरादाबाद मंडलों के मंडलायुक्त और उनसे संबंधित 40 जिलों के जिलाधिकारी उपस्थित थे। इस अवसर पर अपर आयुक्त वेद प्रकाश और विशेष कार्याधिकारी जेपी सिंह भी उपस्थित थे।