वसूली में नपीं गोंडा की महिला खंड शिक्षा अधिकारी, देखें वीडियो में वायरल हुई रिश्वत की सूची



वाट्सएप ग्रुपों पर वायरल हुआ था गोंडा की बीईओ का धन उगाही का पर्चा अपर शिक्षा निदेशक ने की कार्रवाई बीएसए ने की पुष्टि । बीईओ (खंड शिक्षाधिकारी) को डायट दर्जीकुआं से संबद्ध करके जेडी अयोध्या को जांच सौंपी गई है।
अंतर जनपदीय स्थानांतरण प्राप्त करने वाले शिक्षकों को कार्यमुक्त करने से पूर्व रुपये वसूलने के आरोप में वजीरगंज की खंड शिक्षा अधिकारी ममता सिंह को निलंबित कर दिया गया है। बीईओ (खंड शिक्षाधिकारी) को डायट दर्जीकुआं से संबद्ध करके जेडी अयोध्या को जांच सौंपी गई है।

बेसिक शिक्षा परिषद ने शिक्षकों का अंतर जनपदीय स्थानांतरण किया था। यहां 1085 अध्यापकों को इसका लाभ मिला है। स्कूल से लेकर ब्लॉक संसाधन केंद्र व जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय से अध्यापकों को कार्यमुक्त आदेश प्राप्त करना था। इसके बाद ही वह स्थानांतरित जिले में कार्यभार ग्रहण कर सकते थे। मंगलवार की देर रात वाट्सएप ग्रुपों पर एक पर्चा वायरल हुआ। इसमें वजीरगंज के परिषदीय स्कूलों में कार्यरत रहे अंतर जनपदीय स्थानांतरण प्राप्त करने वाले शिक्षकों से वसूले गए धन का हिसाब लिखा हुआ था। एक-एक शिक्षक से दो-दो हजार रुपये वसूले जाने की बात लिखी थी, जिस नंबर से पर्चा वायरल हुआ था। संबंधित अध्यापक शिवशंकर सिंह से अधिकारियों ने बात की। आरोप है कि उन्होंने रुपये वसूलने की बात को सत्य बताया। साथ ही इसमें बीईओ की संलिप्तता की भी पुष्टि की। उक्त कार्य को कर्मचारी नियमावली के विपरीत मानकर खंड शिक्षा अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. इंद्रजीत प्रजापति ने बीईओ के निलंबन की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि नवाबगंज के खंड शिक्षाधिकारी को वजीरगंज का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

डेढ़ हजार से पांच हजार तक मांगे
वजीरगंज ब्लाक में शिक्षकों से कार्य मुक्ति के नाम पर करीब 48 हजार के वसूली की सूची जारी हुई थी। सूची जारी करने वाले ने लेखाकार पर ही वसूली का आरोप लगाया था। जिसमें 1500 रुपये से पांच हजार रुपये तक वसूले जाने की सूची थी।