एक मार्च से प्राथमिक स्कूल खुलने पर टीका लगाकर बच्चों का होगा स्वागत, स्वागत के लिए सजाए जाएंगे परिषदीय स्कूल

कोरोना काल में करीब एक साल बाद खुल रहे कक्षा एक से पांचवीं तक के स्कूलों को बच्चों के स्वागत के लिए सजाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूलों में गुब्बारों, झालरों और अन्य सजावटी सामान से सजाने और बच्चों के लिए शौचालय व पीने के पानी के उचित प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं।



प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश में कक्षा एक से पांचवीं तक के विद्यालय एक मार्च से संचालित होंगे। कोरोना काल में एक साल बाद स्कूल आने वाले बच्चों को अच्छा माहौल देने के लिए स्कूलों को सजाया जाएगा। बेसिक शिक्षा विभाग ने स्कूलों में सजावट की तैयारियां शुरू की है।  बच्चों के स्वागत के लिए स्कूल की कक्षाओं व गेट को रंगीन गुब्बारों, फूलों व रंग बिरंगी झालरों से सजाया जाएगा।  टीका लगाकर बच्चों का स्कूल में स्वागत किया जाएगा।


स्कूलों में बच्चों के पीने के पानी के लिए पेयजल की उचित व्यवस्था की जाएगी। जानकारों की मानें तो शिक्षकों को कंपोजिट ग्रांट से रनिंग वाटर की व्यवस्था करना होगी। इसके अलावा लड़कियों के लिए शौचालय की अलग व्यवस्था की जाएगी। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता  ने बताया कि ऑपरेशन कायाकल्प के तहत स्कूलों का कायाकल्प किया जा रहा है। स्कूल भवनों व कक्षाओं की दीवारों को आकर्षक पेटिंग, स्लोगन  से सजाया गया है। स्कूलों को स्मार्ट क्लास व लाइब्रेरी से लैस किया गया है। अकेले लखनऊ के 1642 स्कूलों से करीब 100 स्कूल में स्मार्ट क्लास बनाए गए हैं।