बीएसए दफ्तर में जमे शिक्षक व लिपिक को हटाने का आदेश

प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद में अभियान चलाकर शिक्षकों की संबद्धता खत्म करने का दावा तो है, लेकिन कुछ शिक्षक अब भी कार्यालयों से संबद्ध हैं। ऐसे ही एक मामले में सिद्धार्थनगर जिले के बीएसए कार्यालय से संबद्ध एक शिक्षक व एक लिपिक को हटाने के लिए शासन को आदेश करना पड़ा है। उन पर शिक्षकों के उत्पीड़न, करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने के गंभीर आरोप हैं। दोनों की विभागीय जांच करने के साथ ही शासन ने एक सप्ताह में माध्यमिक शिक्षा निदेशक से रिपोर्ट मांगी है।


सिद्धार्थनगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में कनिष्ठ लिपिक आनंद प्रकाश श्रीवास्तव व उच्च प्राथमिक विद्यालय धेन्सानानकार के सहायक अध्यापक मोहम्मद इमरान अंसारी संबद्ध हैं। विशेष सचिव राघवेंद्र सिंह ने लिखा है कि आनंद प्रकाश श्रीवास्तव की नियम विरुद्ध संबद्धता मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक, बस्ती की ओर से 26 नवंबर को समाप्त करते हुए मूल तैनाती स्थल पर योगदान देने का निर्देश दिया गया था, लेकिन बीएसए ने निर्देश का अनुपालन नहीं किया तो जेडी ने 22 दिसंबर 2020 को फिर पत्र भेजकर कनिष्ठ लिपिक को कार्यमुक्त करने को लिखा। इसके बाद भी उसकी संबद्धता खत्म नहीं की जा रही है।