शिक्षकों को स्कूल आवंटन के दौरान भड़काने और काउंसिलिंग कार्य में बांधा डालने के मामले में बीएसए ने शिक्षक को कारण बताओ नोटिस किया जारी

बुलंदशहर। नगर के डायट परिसर में शिक्षकों को स्कूल आवंटन के दौरान भड़काने और काउंसिलिंग कार्य में बांधा डालने के मामले में बीएसए ने एक शिक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी किया है, जो एससी/एसटी शिक्षक महासंघ केजिलाध्यक्ष भी हैं, वह लखावटी ब्लॉक के किशनपुर प्राथमिक विद्यालय में तैनात हैं। तीन दिन के भीतर शिक्षक को नोटिस का जवाब देना होगा। वहीं, जिलाध्यक्ष ने सभी आरोपों को निराधार बताया है।

अंतरजनपदीय होकर आए शिक्षकों को डायट परिसर में स्कूल आवंटन किए जा रहे हैं। पहले चरण में प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों को ऑनलाइन स्कूल दिए हैं। रविवार को शिक्षकों ने नजदीकी ब्लॉक के मनचाहे स्कूल आवंटित करने के लिए हंगामा किया था। करीब आधे घंटे के बाद फिर काउंसिलिंग शुरू हो सकी। बीएसए ने बताया कि काउंसिलिंग के लिए आए शिक्षकों को सहायक अध्यापक जितेंद्र गौतम ने भड़काया था। शिक्षक के द्वारा शिक्षकों को भ्रमित किया गया और और सरकारी कार्य में बांधा डाली गई। बीएसए ने बताया कि यह शिक्षक द्वारा अनुशासनहीनता की गई है। मामले में शिक्षक को नोटिस जारी कर तीन दिन के भीतर जवाब मांगा है। यदि नोटिस का जवाब नहीं आता है तो फिर आगे की कार्रवाई होगी। इसके अलावा जिन शिक्षकों ने हंगामा किया था, उनकी भी पहचान की जा रही है, जिनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। उनका यह भी दावा है कि स्कूल आवंटन की प्रक्रिया पारदर्शी चल रही है।

अखंड प्रताप सिंह, बेसिक शिक्षा अधिकारी -: स्कूल आवंटन के दौरान शिक्षकों को भड़काया गया था। मामले में एक शिक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई होगी। शिक्षक द्वारा व्यवस्था को खराब कराया गया है।