अभिभावकों के खाते में जाएगी बेसिक स्कूल के बच्चों को मिलने वाली राशि, बोले बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री


सिद्धार्थनगर । प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चंद्र द्विवेदी ने कहा कि योगी सरकार परिषदीय स्कूलों की सूरत और तस्वीर बदलने के लिए प्रयासरत है। आगामी 31 मार्च 2022 तक सूबे के सभी विद्यालयों को फर्नीचर, स्मार्ट क्लास, दिव्यांग बच्चों के लिए रैंप का निर्माण एवं प्लेग्राउंड की सुविधाओं से लैस करने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा बच्चों पर खर्च होने वाली धनराशि अब अभिभावकों के खाते में भेजी जाएगी।





बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. सतीश द्विवेदी शनिवार को मुख्यालय पर पुनर्निर्माण के लिए चयनित विद्यालयों के शिलान्यास अवसर को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कायाकल्प के तहत स्कूलों को आदर्श बनाने की कोशिश हो रही है। अब तक टाइल्स, फर्श की मरम्मत, बाला बेटिंग, बाउंड्रीवाल आदि के माध्यम से विद्यालयों में बेहतर शिक्षा का माहौल बनाने में सफलता मिली है। 


31 मार्च 2022 तक एक भी स्कूल नहीं बचेगा, जहां फर्नीचर, स्मार्ट क्लास, रैंप, प्लेग्राउंड की सुविधा न हो। इसके लिए सीएम की अध्यक्षता में कार्ययोजना तैयार की जा रही है। भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की चर्चा करते हुए मंत्री ने कहा कि बच्चों को मिल रहे ड्रेस, जूता-मोजा, स्वेटर की गुणवत्ता पर सवाल उठते रहते हैं। 


इन बिंदुओं पर प्रभावी नियंत्रण करने के लिए योगी सरकार ने बच्चों पर खर्च होने वाली समस्त धनराशि का भुगतान अब अभिभावकों के बैंक खाते में भेजने का भी निर्णय लिया है। इस दिशा में अभिभावकों के बैंक खाते का अपडेशन कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है।