स्कूल जाने वाले बच्चे अब खेत में मिले तो अभिभावक जाएंगे जेल: खबर पुरानी मगर ऐसा हो जाये तो शायद सुधार आ जाए

खबर पुरानी:-

महोबा: सरकार बच्चों की शिक्षा के लिए स्कूल भवनों को सुंदर बनाने के साथ किताबें, ड्रेस, जूता-मोजा, भोजन आदि की व्यवस्था कर रही है। इसके बाद भी अधिकांश ग्रामीण बच्चों को स्कूल भेजने के बजाय खेत में साथ काम कराने को ले जाते हैं। अब इस तरह के अभिभावकों को चिह्नित करके पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी। मंडलायुक्त ने इसके लिए सभी थानों को दिशा निर्देश जारी करवा दिए हैं।


प्राथमिक शिक्षा पर बल देते हुए मंडलायुक्त दिनेश कुमार सिंह ने निर्देशित किया है कि प्रत्येक अभिभावक को अपने बच्चे को विद्यालय भेजकर शिक्षा दिलाना चाहिए। आगे चलकर अच्छी सरकारी नौकरी पाकर वही बच्चे अपने माता-पिता के साथ अपने गांव का भी नाम रोशन कर सकें। सरकार गरीबों को ध्यान में

रखते हुए सभी प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को खाना कपड़े बस्ता किताबें आदि फ्री में देकर शिक्षा को बढ़ावा दे रही है। इसलिए इनके पढ़ाई का अधिकार छीनने का किसी को हक नहीं है। माता-पिता को स्वयं अपने बच्चे को बेहतर शिक्षा प्रति आगे आना चाहिए।

इससे बच्चे का जीवन तो सुधरेगा ही साथ में पूरे परिवार को उसका लाभ मिलेगा। निर्देश दिए कि सभा थाना प्रभारी जब भी गश्त पर निकलें तो यह देखते हुए जाएं कि कहीं किसी खेत खलिहान में कोई बच्चा तो काम नहीं कर रहा है।