अलीगढ़ में परिषदीय विद्यालय की शिक्षिका के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज, शिक्षिका ने किया कुछ ऐसा जानकर हैरत में पड़ जाएंगे आप

बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी पाने वाली शिक्षिका के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। शिक्षिका गौंड़ा विकास खंड क्षेत्र के उच्चप्राथमिक विद्यालय कलींजरी में सहायक अध्यापिका थी। शिक्षिका की नियुक्ति 2016 में हुई थी और लगभग दो वर्ष तक पद पर रही। 


यह है मामला
ब्लॉक गौंड़ा के खंड शिक्षा अधिकारी अखिलेश प्रताप सिंह के अनुसार परवीना पुत्री निरोत्तम पत्नी बलवीर सिंह निवासी गांव नगला टोटा बाग, पोस्ट जटोई (हाथरस)की नियुक्ति जिला बेशिक शिक्षा अधिकारी के पत्रांक 21792-801/2015-16, 30 मार्च 2016 द्वारा सहायक अध्यापिका विज्ञान के पद पर हुई थी। उन्हें उच्चप्राथमिक विद्यालय कलींजरी में नियुक्त किया गया था। शिक्षिका द्वारा बीएसए कार्यालय में प्रस्तुत अभिलेखों के सत्यापान के दौरान टैट का प्रमाण पत्र अनुक्रमांक 03077618 फर्जी पाया गया। इसके बाद शिक्षिका की भर्ती को स्वत: निरस्त मानते हुए शून्य घोषित कर दी गई थी। 


दो वर्ष तक पद पर रही
बताया जाता है कि शिक्षिका लगभग दो वर्ष तक पद पर रही थी। कोतवाल प्रदीप कुमार ने बताया कि तहरीर के आधार पर परवीना के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई है। इसकी जांच एसएसआइ लखमी सिंह द्वारा की जाएगी। ​गौंडा के खंड शिक्षा अधिकारी अखिलेश प्रताप का कहना है कि बीएसए के आदेश पर फर्जी शिक्षिका परवीना के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। वह कुछ समय तक ही विद्यालय में पद पर रही थी।