परिषदीय विद्यालयों के बच्चों से पढ़ाई का बोझ खत्म कर रोचक तरीके से पढ़ाने की तैयारी

अमरोहा। परिषदीय विद्यालयों के बच्चों से पढ़ाई का बोझ खत्म कर रोचक तरीके से पढ़ाने की तैयारी है। अब कक्षा एक से आठ तक के बच्चों की पाठ्य पुस्तकों में दी गई कहानियों का ऑडियो बनाया जाएगा। इन कहानियों के माध्यम से बच्चों को गणित में गुणा-भाग और अंग्रेजी का ए- फॉर- एप्पल सिखाने का प्रयास होगा। सरकार ने पाठ की विषय वस्तु, प्रमुख घटनाओं को कहानी के रूप में रोचक बनाए जाने का निर्णय लिया है। इसके लिए शिक्षकों को ऑडियो रिकॉर्डिंग करने के निर्देश दिए गए हैं।


राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के संयुक्त निदेशक (एसएसए) अजय कुमार सिंह ने सूबे के सभी जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान (डॉयट) के प्राचार्य और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पाठ्य पुस्तकों में से चुनिंदा पाठों का तीन से सात मिनट का ऑडियो बनवाने का निर्देश दिया है। इसके लिए सूबे के 62 शिक्षकों को जिम्मेदारी मिली हैं। इसमें प्राथमिक विद्यालय नाईपुरा (जोया) के प्रधानाध्यापक मतीन अहमद भी शामिल हैं। वह इतिहास में इस्लाम का भारत का आगमन और सुल्तान काल की शुरूआत पाठ को अपनी आवाज देंगे। इससे पहले उनकी दीक्षा एप पर चार कहानियां आ चुकी हैं। इसके लिए वह वर्ष 2017 में राज्य स्तर पर कहानी सुनाने की प्रतियोगिता में पुरस्कृत हुए थे। मतीन अहमद ने बताया कि पाठ की विषय वस्तु प्रमुख घटनाएं, प्रमुख अवधारणाएं, क्रियाकलापों को सम्मिलित करते हुए पाठ का सारांश या पाठ के महत्वपूर्ण अंशों को कहानी के रूप में रोचक बनाकर प्रस्तुत किया जाएगा जिससे बच्चों में सुनने, सुनकर समझने और विषयवस्तु को ग्राहय करने में आनंद प्राप्त हो सके। कहानी की ऑडियो रिकॉर्डिंग में साउंड इफेक्ट, मिमिक्री साउंड, बैकग्राउंड संगीत आदि शामिल होंगे। सभी शिक्षकों को अपनी कहानी की ऑडियो रिकॉर्डिग 21 मार्च तक परिषद की ई-मेल आईडी पर भेजने के निर्देश दिए गए हैं।