साढ़े तीन माह में TGT-PGT शिक्षक भर्ती पूर्ण करना UPSESSB के लिए चुनौती

सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में टीजीटी-पीजीटी 2020 के 15198 पदों पर महज साढ़े तीन महीने में भर्ती पूरी करना उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड के लिए पहाड़ सरीखी चुनौती साबित होगा।


संजय सिंह के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2021 से पहले भर्ती पूरी करने के आदेश दिए हैंष यानी 30 जून तक भर्ती पूरी होनी है। मजे की बात है कि जितना समय भर्ती के लिए नहीं बचा है, उससे अधिक चयन बोर्ड और माध्यमिक शिक्षा विभाग के अफसरों ने संशोधित विज्ञापन जारी करने में बर्बाद कर दिए।विधिक अड़चनों के कारण टीजीटी-पीजीटी 2020 का विज्ञापन 18 नवंबर को निरस्त हुआ था। दो दिन कम पूरे चार महीने संशोधित विज्ञापन जारी करने में लग गए। बचे हुए साढ़े तीन महीने एक महीने आवेदन में ही चले जाएंगे।11 अप्रैल तक पंजीकरण करा सकेंगे। फीस जमा करने और अंतिम रूप से फॉर्म जमा करने की तारीख 13 और 15 अप्रैल है। उसके बाद ढ़ाई महीने में केंद्र निर्धारण करते हुए परीक्षा कराना और परिणाम देना कठिन काम होगा। 

चार दशक की सबसे बड़ी भर्ती करने जा रहा चयन बोर्ड
माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड लगभग चार दशक की सबसे बड़ी भर्ती करने जा रहा है। सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षकों एंल प्रधानाचार्य की भर्ती के लिए 1982 में गठित चयन बोर्ड ने टीजीटी-पीजीटी के 15198 पदों पर आवेदन मांगे हैं। जानकारों की मानें तो अपनी स्थापना के बाद पहली बार चयन बोर्ड इतने बड़े पैमाने पर शिक्षकों की भर्ती करने जा रहा हैष इससे पहले 2016 में टीजीटी के 7950 और पीजीटी के 1344 कुल 9294 पदों पर भर्ती शुरू हुई थी। हालांकि अंतिम चयन परिणाम जारी होने तक यह संख्या और कम हो गई थी।