1600 बेसिक शिक्षकों पर लटकी कार्रवाई की तलवार, मिड डे मील का हिसाब न देने पर जारी किए निर्देश



लखनऊ। 

कोरोना के कारण लॉकडाउन में मिड डे मील के राशन व कन्वर्जन कास्ट का हिसाब शिक्षक नहीं दे पा रहे हैं। स्कूलों के 1600 शिक्षकों ने इसका हिसाब नहीं दिया है। हिसाब न देने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई की तलवार लटकी है। मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह ने इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं



कोरोना काल में प्रदेश के सभी प्राइमरी व जूनियर स्कूल बंद थे। इसकी वजह से स्कूलों में मिड डे मील नहीं बना था। शासन ने इस अवधि का मिड डे मील व कन्वर्जन कास्ट बच्चों के खातों में भेजने तथा बच्चों को राशन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया था। कन्वर्जन कास्ट की रकम स्कूलों के खातों में भेजी गई थी जबकि राशन के लिए स्कूलों के शिक्षकों को पर्ची बनाकर कोटेदारों को देना था। जिसके अनुसार कोटेदारों को बच्चों व उनके अभिभावकों को चावल और गेहूं उपलब्ध कराना था। पहले चरण में 29 मई 2020 को शासन ने 76 दिनों का राशन व कन्वर्जन कास्ट स्कूलों के खातों में भेजा। इसमें प्राइमरी स्कूलों के प्रति छात्र को 7 किलो 600 तथा जूनियर स्कूलों के छात्रों को 11 किलो 400 ग्राम गेहूं/ चावल उपलब्ध कराना था। इसके अलावा प्राइमरी के बच्चों को 374 रुपये तथा जूनियर की बच्चों को 561 रुपए कन्वर्जन कास्ट दी जानी थी। शासन ने 7 अक्टूबर 2020 को 49 दिन का और राशन तथा कन्वर्जन कास्ट बच्चों को देने का निर्देश दिया था। 49 दिनों के लिए प्राइमरी के बच्चों को 4 किलो 900 ग्राम तथा जूनियर के बच्चों को सात किलो 350 ग्राम राशन देना था। इसी तरह प्राइमरी के बच्चों को 243.5 रुपए और जूनियर के बच्चों को 365 रुपए कन्वर्जन कास्ट देनी थी।

शासन ने मांगा हिसाब

अब शासन इसका हिसाब मांग रहा है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने 22 फरवरी को ही पत्र लिखकर राजधानी के सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों से इसका हिसाब देने को कहा था। कितने बच्चों को मिड-डे मील गया, कितने को नहीं दिया गया। कितने बच्चों के बैंक खाते मिल पाए और कितनों को नहीं। यह सब हिसाब शिक्षकों को देना था लेकिन करीब 1600 स्कूलों के शिक्षकों ने हिसाब नहीं दिया है। प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी व मंडलीय सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी किया है। उनसे तत्काल इसका हिसाब व उपभोग प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

138 दिनों का और जारी हुआ राशन व कन्वर्जन कास्ट


शासन में प्राइमरी स्कूलों के बच्चों के लिए 138 दिनों का और राशन तथा कन्वर्जन कास्ट जारी किया है। जबकि जूनियर स्कूलों के बच्चों के लिए 124 दिनों का राशन व कन्वर्जन कास्ट दिया है। प्राइमरी के बच्चों को 13 किलो 800 ग्राम तथा जूनियर के बच्चों को 18 किलो 600 ग्राम गेहूं चावल मिलेगा। इसके अलावा प्राइमरी के बच्चों को 685 रुपये कन्वर्जन कास्ट तथा जूनियर के बच्चों को 923 कन्वर्जन कास्ट मिलेगा। इसका आदेश 27 मार्च 2021 को हुआ लेकिन अभी तक यह कन्वर्जन कास्ट और राशन भी बच्चों को नहीं वितरित हुआ है।