फर्जीवाड़े में अब तक 17 शिक्षकों की सेवा समाप्त


आजमगढ़। कूटरचित अभिलेख लगार शिक्षा विभाग में नौकरी कर रहे 17 शिक्षकों पर विभाग ने बर्खास्तगी की कार्रवाई की है। परिषदीय स्कूलों में फर्जी शिक्षकों पर बीएसए द्वारा अब तक की गई कार्रवाई की रिपोर्ट बेसिक शिक्षा निदेशक ने तलब की है।


शासन के आदेश पर वर्ष 2010 के बाद नियुक्त हुए शिक्षकों की जांच चल रही है। आदेश आने के बाद विभाग भी शिक्षकों पर हुई कार्रवाई की रिपोर्ट बनाने में जुट गया है। मामले में सभी बीईओ से रिपोर्ट मांगी गई है। दरअसल, शासन के आदेश पर वर्ष 2010 के बाद जिले के परिषदीय स्कूलों में तैनाती पाने वाले शिक्षकों की जांच चल रही है। फर्जी मार्कशीट व कूटरचित अभिलेख लगाकर नौकरी कर रहे करीब 17 शिक्षकों को विभाग बर्खास्त कर चुका है। इनमें से सभी की सेवा समाप्त कर एफआईआर हो चुकी है। बेसिक शिक्षा निदेशक ने इन शिक्षकों पर अभी तक हुई कार्रवाई की जानकारी मांगी है। पूछा है कि जांच में अब तक कितने शिक्षक फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी करते मिले हैं। निरीक्षण में कितने निलंबित किए गए, उनकी बहाली कब हुई, यह रिपोर्ट भी तलब की गई है।


फर्जी शिक्षकों को लेकर समय-समय पर समीक्षा बैठक होती है। फर्जी पाए गए शिक्षकों के खिलाफ क्या कार्रवाई हुई, इन सभी की जानकारी मांगी जाती है। निदेशक की ओर से रिपोर्ट मांगी गई है। जिसे भेजा जाएगा।
-अंबरीष कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, आजमगढ़।