बड़ी कार्रवाई:- गलत सूचना देने के मामले में 49 प्रधानाध्यापकों का वेतन रोका, लाइट पंखा विहीन विद्यालयों की संख्या से विभाग हैरान


बेसिक शिक्षा अधिकारी ने फरवरी तथा मार्च माह में अलग-अलग सूचना देने के मामले में 49 प्रधानाध्यापकों के खिलाफ वेतन रोकने की कार्रवाई की है। बीएसए द्वारा की गई कार्रवाई से प्रधानाध्यापकों में हड़कंप मच गया है।

बेसिक शिक्षा अधिकारी अरविंद कुमार पाठक ने बताया कि जनपद के 30 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों द्वारा फरवरी माह में स्कूलों को रैंप रेलिंग से संतृप्त दर्शाए गए थे। लेकिन मार्च माह में प्रधान अध्यापकों द्वारा दी गई सूचना में विद्यालयों को रैंप तथा रेलिंग विहीन दर्शाए गए हैं। संबंधित प्रधानाध्यापक एवं इंचार्ज प्रधानाध्यापक के खिलाफ वेतन रोकने की कार्रवाई की गई है। उन्होंने बताया कि जिन प्रधानाध्यापकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। उनमें विकासखंड अरांव के छह, एका के तीन, फिरोजाबाद के दो, खैरगढ़ का एक, मदनपुर विकासखंड के 6, नारखी विकासखंड का एक, नगर क्षेत्र फिरोजाबाद के 7 तथा नगर क्षेत्र शिकोहाबाद के 4 विद्यालय शामिल हैं।


उन्होंने बताया कि इसी प्रकार फरवरी माह में रसोई घर से संतृप्त दिखाने वाले 19 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों द्वारा मार्च माह में विद्यालय को रसोईघर से असंतृप्त दिखाया गया है। इस प्रकार की गलत सूचना उपलब्ध कराने के कारण विकासखंड शिकोहाबाद का एक, विकासखंड नारखी के दो, विकासखंड राम के 11, विकासखंड एका के 5 विद्यालयों के प्रधानाध्यापक के खिलाफ वेतन रोकने की कार्रवाई की गई है।

रंगाई पुताई न कराने पर 14 प्रधानाध्यापकों का वेतन रोका

फिरोजाबाद। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने विद्यालयों की रंगाई पुताई न कराने वाले 14 स्कूलों के प्रधानाध्यापकों के खिलाफ वेतन रोकने की कार्रवाई की है बीएसए अरविंद पाठक ने बताया कि कंपोजिट ग्रांट से विद्यालय में रंगाई पुताई ना कराने वाले नगर क्षेत्र शिकोहाबाद के पांच, ब्लॉक टूंडला विकासखंड के चार, विकासखंड एका का एक विकासखंड नारखी के दो, विकासखंड खैरागढ़ का एक तथा विकासखंड फिरोजाबाद का एक विद्यालय शामिल हैं।


लाइट पंखा विहीन विद्यालयों की संख्या से विभाग हैरान

फिरोजाबाद। परिषदीय स्कूलों के प्रधानाध्यापकों द्वारा प्रत्येक महा दी जाने वाली अवस्थापना सुविधाओं की सूचना में गड़बड़ी का संज्ञान लेते हुए बीएसए ने चार प्रधानाध्यापकों का वेतन रोक दिया है। जिसमें फरवरी माह में विद्यालयों को संतृप्त तथा मार्च माह में असंतृप्त दिखाने वाले टूंडला के तीन तथा नारखी ब्लॉक का एक विद्यालय शामिल हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी अरविंद कुमार पाठक ने बताया कि परिषदीय विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों से प्रत्येक माह अवस्थापना सुविधाओं के संबंध में सूचना प्राप्त कर ब्लॉक स्तर पर फीड की जाती है। उन्होंने बताया कि विकासखंड नारखी के प्राथमिक विद्यालय नगला सलुआ तथा विकासखंड टूंडला के प्राथमिक विद्यालय रईया, उच्च प्राथमिक विद्यालय राजमल, उच्च प्राथमिक विद्यालय ठार बल्दी के प्रधानाध्यापकों के द्वारा फरवरी माह में विद्यालय को विद्युतीकरण लाइट एवं पंखा आज से संतृप्त दिखाया गया था। वहीं मार्च माह में प्रधानाध्यापकों द्वारा दी गई सूचना में विद्यालयों को लाइट पंखा से असंतृप्त दिखाया गया है। गलत सूचना देने के मामले का संज्ञान लेते हुए संबंधित विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों का वेतन रोकने की कार्रवाई की गई है।