संक्रमण बढ़ने से अभिभावकों में दहशत, स्कूल बंद करने की मांग

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने अभिभावकों की चिंता बढ़ा दी है। नौवीं से बारहवीं कक्षा तक कक्षाएं चालू होने और मौजूदा हालात में स्कूलों द्वारा बच्चों को जबरन बुलाए जाने से अभिभावकों में रोष है। अभिभावकों ने संक्रमण के खतरे के चलते सरकार से कक्षा नौ से 12 तक की भी ऑफलाइन कक्षाएं बंद कराए जाने की मांग की है।


बच्चों को स्कूल जबरन बुला रहे हैं। शहर में रोजाना संक्रमण के मामलों में वृद्धि हो रही है। ऐसे में स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा सबसे बड़ा सवाल है। सरकार या जिला प्रशासन को तत्काल स्कूल बंद करने का निर्देश जारी करना चाहिए।

-पीके श्रीवास्तव, पदाधिकारी, अभिभावक संघ

सरकार ने कक्षा नौ से 12 तक की परीक्षाएं कराने की अनुमति दी है। स्कूल में कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जा रहा है। विद्यार्थियों, शिक्षकों व स्टाफ के लिए मास्क अनिवार्य है। स्कूल परिसर में दो बार सैनिटाइजेशन किया जा रहा है। आगे सरकार का जैसा निर्देश होगा, उसका पालन किया जाएगा।

-ऋषि खन्ना, प्रवक्ता, सिटी मांटेसरी स्कूल

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए ही हमने 12 अप्रैल तक बच्चों के लिए स्कूल बंद कर दिया है। अगर आगे हालात ठीक होते हैं तो 19 अप्रैल से स्कूल खोले जाएंगे। इसके साथ ही सरकार के निर्णय के अनुसार फैसला लिया जाएगा।

-अनिल अग्रवाल, एमडी, सेंट जोसफ ग्रुप ऑफ स्कूल्स

स्कूल बंद करने के आदेश के बाद से ही हमने स्कूल बंद कर दिए हैं। वैसे भी अभी रिजल्ट तैयार हो रहे हैं। बच्चों को स्कूल बुलाने का कोई मतलब नहीं है। सात अप्रैल से स्कूल खोलने की प्लानिंग है, मगर यह सरकार के निर्देशों पर निर्भर है। सरकार के जैसे निर्देश आएंगे, वैसा किया जाएगा।

-एसपी सिंह, एमडी, लखनऊ पब्लिक स्कूल्स एंड कॉलेजेज