प्रधानाध्यापक बने फर्जी शिक्षक पर रिपोर्ट दर्ज, एसटीएफ ने कुछ इस तरह खोली पोल

गोरखपुर: दूसरे के प्रमाणपत्र पर शिक्षक बनकर प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाचार्य के पद पर तैनात रहे व्यक्ति पर बस्ती जिले के हर्रैया थाने में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया गया है। एसटीएफ की जांच में पाया गया कि गोरखपुर में कार्यरत सहायक अध्यापक की मार्कशीट का इस्तेमाल करते हुए उसने नौकरी हासिल की। जांच में आरोप की पुष्टि होने के बाद बीएसए जगदीश शुक्ल ने जिले के हर्रैया ब्लॉक के प्राथमिक बिठलापुर में प्रधानाध्यापक पद पर कार्यरत अविनाश कुमार सिंह को बर्खास्त कर दिया था।



प्रभारी निरीक्षक विकास यादव ने बताया कि बीईओ हर्रैया सुभाष चंद्र की तहरीर पर फर्जी शिक्षक अविनाश कुमार सिंह पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

बीएसए के अनुसार, 2020 में बस्ती में कार्यरत प्रधानाध्यापक अविनाश कुमार सिंह पर गलत तरीके से नौकरी हासिल करने की शिकायत जिले के हर्रैया के रहने वाले व्यक्ति ने एसटीएफ से की थी। जांच में सामने आया कि इसी नाम से बेसिक विभाग में एक सहायक अध्यापक गोरखपुर के ब्रह्मपुर ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय राजी जगदीशपुर में कार्यरत हैं। उनके सभी अभिलेखों का इस्तेमाल फर्जी तरीके से कर उन्हीं के नाम पर 2010 में बस्ती में सहायक अध्यापक की नौकरी हासिल कर ली गई थी।