टलती परीक्षाओं से प्रतियोगी युवाओं के भविष्य पर संकट


प्रयागराज कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति का प्रतियोगी युवाओं के भविष्य पर विपरीत प्रभाव पड़ने लगा है। उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग, उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग, कर्मचारी चयन आयोग ने अप्रैल व मई महीने की महत्वपूर्ण परीक्षाएं व साक्षात्कार स्थगित कर दिए हैं। स्थिति न सुधरने पर आने - वाले दिनों में और भी परीक्षाएं टल
सकती हैं। इससे महीनों से परीक्षाओं - की तैयारी कर रहे प्रतियोगियों को बड़ा झटका लगा है। हर कोई अपने भविष्य को लेकर चिंतित है।


उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने विज्ञापन संख्या-49 के तहत निकली प्राचार्य पद की भर्ती का साक्षात्कार स्थगित कर चुका है। आयोग ने 11 तक होने वाले शैक्षिक अभिलेखों का सत्यापन व 13 मई तक चलने वाले साक्षात्कार को स्थगित कर दिया है।

वहीं, लोकसेवा आयोग ने आरओ/एआरओ 2016 के चयनित अभ्यर्थियों के शैक्षिक दस्तावेजों का सत्यापन स्थगित कर दिया है। यह 22 से 24 अप्रैल के बीच होना था। इससे चयनितों को जल्द नियुक्ति मिलने के मंसूबे पर पानी फिर गया है।

वहीं, प्रवक्ता राजकीय डिग्री कालेज स्क्रीनिंग परीक्षा स्थगित की जा चुकी है। मौजूदा स्थिति का देखते हुए मई के साथ ही जून में होने वाली परीक्षाओं पर भी संकट मंडरा रहा है।

वहीं, कर्मचारी चयन आयोग ने एसआइ - 2019 पेपर-2 की परीक्षा स्थगित कर दिया। जबकि 12 अप्रैल को आरंभ हुई कंबाइंड हायर सेकेंड्री (10+2) लेवल परीक्षा-2020 टियर -1 की परीक्षा को 19 अप्रैल को रोक दी गई। यह परीक्षा 26 अप्रैल तक चलनी थी। अब बची परीक्षाओं की तारीख बाद में घोषित की जाएगी।

इसी तरह से माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उम्र की टीजीटी 2016 का साक्षात्कार भी स्थगित हो चुका है। इन दिनों जिस तरह के हालात हैं, उसमें परीक्षाओं की नई तारीखें घोषित होने के आसार अभी नहीं हैं।